ममता को बड़ा झटका, SC ने बंगाल चुनाव में ‘जय श्री राम’ के नारे पर पाबंदी लगाने वाली याचिका खारिज कर दी

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव चरम पर है, इसी बीच सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर करके मांग की गई थी कि चुनाव से पहले बंगाल में ‘जय श्री राम’ के नारों पर रोक लगाई जाय, इस याचिका को वकील एमएल शर्मा ने दायर किया था, इसके अलावा उन्होंने मांग की थी कि बंगाल में चुनाव आठ चरणों में न कराया जाय, चीफ जस्टिस एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना और न्यायमूर्ति वी रामसुब्रमण्यन की पीठ ने सुनवाई की और याचिका को खारिज कर दिया, सूत्रों के मुताबिक़, सुप्रीम कोर्ट में यह याचिका टीएमसी नेताओं के इशारे पर दायर की गई थी, गौरतलब है कि ‘जय श्री राम’ का नारा सुनते ही टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी भड़क उठती हैं.

चीफ जस्टिस की अध्यक्षता वाली पीठ ने शुरुआत में याचिकाकर्ता और वकील एमएल शर्मा से कहा कि वह कलकत्ता उच्च न्यायालय के पास जाएं. इस पर एमएल शर्मा ने पीठ से कहा, ‘मैंने एक फैसले को आधार बनाया है. यह चुनाव संबंधी याचिका नहीं है. एक दल धार्मिक नारों का इस्तेमाल कर रहा है. मुझे उच्च न्यायालय क्यों जाना चाहिए?’ जब याचिकाकर्ता ने मामले की सुनवाई बुधवार को करने का अनुरोध किया तो पीठ ने कहा, ‘ठीक है, हम आपसे सहमत नहीं हैं. याचिका खारिज की जाती है.

आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में आठ चरणों में विधानसभा चुनाव है, टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी आठ चरणों में चुनाव कराये जानें का विरोध कर रही हैं, जय श्री राम से उनकी नाराजगी तो जगजाहिर है, एमएल शर्मा की याचिका पर नजर ममता की भी रही होगी, अब याचिका खारिज होने से न सिर्फ याचिकाकर्ता को झटका लगा, बल्कि ममता बनर्जी को भी तकलीफ हुई होगी।