राजस्थान में महिलाएं असुरक्षित: फ़रियाद लेकर थाने पहुंची महिला से सब इंस्पेक्टर ने 3 दिन तक किया बलात्कार

प्रतीकात्मक चित्र

कांग्रेस शासित राजस्थान में महिलायें सुरक्षित नहीं हैं, ये हम नहीं बल्कि दिन-प्रतिदिन राजस्थान में महिलाओं पर हो रहा अत्याचार चीख-चीखकर इसकी गवाही दे रहा है, फ़रियाद लेकर थाने पहुंची महिला की समस्या का निवारण करने के बजाय सब इंस्पेक्टर ने तीन दिनों तक महिला के साथ थाना परिसर में बलात्कार किया, ये शर्मशार कर देने वाला मामला राजस्थान में अलवर जिले के खेरली थाने का है।

पत्रिका में छपी खबर के मुताबिक़, एक 26 वर्षीय महिला का पति उसे तलाक देना चाहता था लेकिन महिला राजी नहीं थी, इसी समस्या को लेकर महिला थाने पहुँची, महिला की मांग थी कि उसके पति को पाबंद किया जाए, ताकि वो तलाक न दे, खेरली थाने में बतौर सब इंस्पेक्टर पद पर तैनात भरत सिंह जादौन ने कार्रवाई के नाम पर महिला को थाना परिसर में बने अपने आवास पर बुलाया और वहीँ पर महिला के साथ लगातार तीन दिन तक बलात्कार किया।
घटना के संबंध में रविवार को महिला ने पुलिस थाने में शिकायत दी।

मामले की गंभीरता को देखते हुए जयपुर रेंज आईजी हवासिंह घुमरिया और एसपी तेजस्विनी गौतम देर रात करीब 10 बजे खेरली थाने पर पहुंचे, पुलिस ने पीड़ित महिला की रिपोर्ट पर तुरंत बलात्कार का मामला दर्ज किया और उसके बाद बलात्कार के आरोपी सब इंस्पेक्टर थाने के सैकेंड अफसर सब इंस्पेक्टर भरत सिंह जादौन निवासी दौसा को गिरफ़्तार कर लिया। राजस्थान में महिलाओं पर अत्याचार का यह कोई पहला मामला नहीं है. इससे पहले 3 मार्च को अरावली विहार थाने के एएसआई रामजीत सिंह गुर्जर के खिलाफ एक महिला ने शादी का झांसा देकर करीब ढाई साल तक शोषण करने और गर्भपात कराने का मामला दर्ज कराया था।

इस घटना पर कांग्रेस नेता राहुल-प्रियंका गांधी खामोश हैं, अगर यह घटना किसी भाजपा शासित राज्य में हुई होती तो अबतक ये भाई-बहन कोहराम मचा देते, लेकिन राजस्थान में हुई शर्मशार कर देने वाली घटना पर चुप्पी साध रखें, इनकी चुप्पी का कारण यह है कि कांग्रेस में राजस्थान की सरकार है।