सचिन वाजे की गिरफ़्तारी के बाद गरमाई महाराष्ट्र की सियासत, संजय राऊत हुए आगबबूला!

मुंबई के एनकाउंटर स्पेशलिस्ट सचिन वाजे की गिरफ़्तारी के बाद महाराष्ट्र की सियासत गरमा गई है, गौरतलब है कि मुकेश अम्बानी के घर के बाहर विस्फोटक से भरी कार मिलने के मामलें में लगभग 12 घंटे तक पूछताछ करने के बाद राष्ट्रीय जांच एजेंसी ( NIA ) ने सचिन वाजे को गिरफ्तार कर लिया। वाजे शिवसेना के नेता भी रह चुके हैं, उनकी गिरफ़्तारी के बाद से ही संजय राउत आगबबूला हो गए हैं.

शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता संजय राउत ने सामना में लिखा है कि इन सभी मामलों की गुप्त जानकारी पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के पास सबसे पहले पहुंच रही है, जो सरकार के लिए शुभ संकेत नहीं है।

संजय राउत ने सामना में लिखा है कि अंबानी परिवार के घर के बाहर एक संदिग्ध गाड़ी खड़ी रहती है, उस गाड़ी के मालिक मनसुख हिरेन की तुरंत संदेहास्पद मौत हो जाती है, विधानसभा में उस पर चार दिन हंगामा होता है। ये सभी रहस्यमय मामले महाराष्ट्र की राजनीति में हलचल मचा रहे हैं। इन सभी मामलों की गुप्त जानकारी विरोधी नेता फडणवीस के पास सबसे पहले पहुंचती रही। संजय राउत ने लिखा है कि भाजपा नेता के कहने के बाद ही इस मामलें की जांच NIA को सौंपी गई. क्योंकि यह भाजपा के लिए संभव था। भाजपा केंद्र में है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, NIA ने सचिन वाजे के खिलाफ आपराधिक षडयंत्र के लिए 120 (बी), विस्फोटक मामले में लापरवाही बरतने के लिए 286, जालसाजी के लिए 465, जाली सील के इस्तेमाल के लिए 473 और धमकी देने के लिए 506(2) के तहत केस दर्ज किया है।

ध्यान रहे कि 25 फरवरी को एंटीलिया के बाहर जिस गाड़ी में जिलेटिन की छड़ें मिली थीं, उस SUV कार का संबंध मनसुख हीरेन से निकला है। महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री व् भाजपा नेता देवेंद्र फडनवीस ने वाजे को मनसुख की मौत का जिम्मेदार माना था। इसके लिए उन्होंने असेंबली में शिवसेना सरकार पर जोरदार हमला भी किया था।