एक और बड़ा खुलासा: दो सीनियर अधिकारियों को हटाकर की गई थी सस्पेंडेड सचिन वाजे की नियुक्ति

एंटीलिया केस में गिरफ्तार होनें के बाद मुंबई पुलिस के सस्पेंडेड पुलिस अधिकारी सचिन वाजे चर्चा में हैं, ये वही सचिन वाजे हैं जिन्हें 2004 में हाईकोर्ट ने सस्पेंड कर दिया था और फिर 2020 में एक बार फिर से इनकी पुलिस विभाग में वापसी हुई और 2021 में फिर सस्पेंड हो गए, फिलहाल राष्ट्रीय जाँच एजेंसी ( NIA ) की कस्टडी में हैं, खबर मिल रही है कि दो सीनियर अधिकारियों को हटाकर सचिन वाजे की नियुक्ति की गई थी।

सचिन वाझे को क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट (सीआईयू) का प्रभारी बनाए जाने के बाद से ही मुंबई क्राइम ब्रांच में घमासान मचा हुआ था। सचिन वाझे को सीआईयू का प्रभारी बनाने के लिए योजनाबद्ध तरीके से दो अधिकारियों को वहां से हटाया गया था। सीआईयू के इतिहास में पहली बार एपीआई दर्जे के अधिकारी की तैनाती दिए जाने से ही क्राइम ब्रांच के अधिकांश अधिकारी खफा थे।

ख्वाजा यूनुस प्रकरण में निलंबित वाझे को पुलिस सेवा में बहाली देने के बाद 9 जून 2020 को क्राइम ब्रांच की सीआईयू में तैनाती देकर प्रभारी बनाया गया। ‘लोकमत के मुताबिक़, वाझे की तैनाती के पहले सीनियर पीआई दर्जे के दो अधिकारी सीआईयू में तैनात थे।वाझे को ‘फ्री हैंड’ देने के लिए पहले दोनों पीआई का तबादला किया गया।

loading...