100 करोड़ के वसूली काण्ड ने पकड़ा तूल: रामकदम बोले- नार्को टेस्ट कराकर इस्तीफ़ा दें उद्धव और देशमुख

मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के एक पत्र से महाराष्ट्र की सियासत में भूचाल आ गया है, चहुंओर उद्धव ठाकरे सरकार की थू-थू हो रही है, दरअसल परमबीर ने सीएम उद्धव ठाकरे को एक चिट्ठी लिखी है जिसमें उन्होंने दावा किया है कि गृहमंत्री अनिल देशमुख ने सचिन वाजे को कहा था हर महीने 100 करोड़ की वसूली चाहिए। अब इस मामलें ने तूल पकड़ लिया है, इस काण्ड का खुलासा होनें के बाद भाजपा विधायक रमकदम ने न सिर्फ सीएम उद्धव ठाकरे और गृहमंत्री अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग की है बल्कि नार्को टेस्ट की भी मांग की है.

गृहमंत्री अनिल देशमुख पर पुलिस अधिकारियों के जरिए वसूली किए जाने के आरोप के बाद महाराष्ट्र के भाजपा विधायक राम कदम ने कहा कि महाराष्ट्र के सीएम और गृहमंत्री को नार्को टेस्ट कराते हुए तुरंत इस्तीफ़ा दे देना चाहिए, अब उन्हें इस पद पर आसीन रहनें का कोई अधिकार नहीं है. उद्धव ठाकरे और अनिल देशमुख पर निशाना साधते हुए रमकदम ने कहा, जिनके नाक के नीचे और आँखों के सामने इतना घिनौना दुष्कर्म हुआ है, उन्हें सत्ता में रहने और पद पर रहने का अधिकार कतई नहीं है…उन्होंने कहा, आजाद भारत के इतिहास में इससे पहले इस प्रकार का घिनौना दुष्कर्म कभी नहीं हुआ. इसके अलावा रमकदम ने कहा, शरद पवार, राहुल गांधी को भी इस मामलें में जवाब देना होगा।

रामकदम ने कहा, अतीत में इतना घिनौना दुष्कर्म कभी नहीं हुआ, मुखिया के रूप मे उनकी नाक के नीचे आँखों के सामने सब कुछ हुआ, उनका वाजे गैंग को समर्थन करते हुए उसे बचाना यह देश और दुनिया ने देखा है, शिवसेना और शरद पवार तथा राहुल गांधी क्या इन पैसों में किस किसकी क्या और कैसे, हिस्सेदारी थी ? यह कब बतायेंगे? बड़े उद्योगपति महाराष्ट्र में सुरक्षित नहीं अब आने वाले भविष्य में क्या कोई उद्योगपति महाराष्ट्र में नया उद्योग लाने की हिम्मत जुटा पाएगा? दुर्भाग्य से जवाब ना हैं, करोडों गरीबों के भविष्य के रोजगार इस सरकार ने छिन लिए.

loading...