गुजरात पंचायत चुनाव: कांग्रेस को बड़ा झटका, 7 कांग्रेसी विधायकों के बेटे पंचायत चुनाव हार गए

प्रतीकात्मक फोटो

गुजरात नगर-निगम चुनाव में धमाकेदार प्रदर्शन करने वाली भाजपा का शानदार सफर पंचायत चुनाव तक जारी है, गुजरात में हुए स्थानीय निकाय चुनाव में भाजपा को बम्पर जीत मिली है, वहीं, दूसरी ओर कांग्रेस के खेमे में हारने वालो में एक मौजूदा विधायक और सात विधायकों के बेटे भी शामिल हैं. राज्य में 28 फरवरी को हुए मतदान के बाद 81 नगर पालिकाओं, 31 जिला पंचायतों और 231 तालुका पंचायतों में मतगणना जारी है।

इस चुनाव में सबसे बड़ा झटका आनंद जिले के पेटलाड से तीन बार के कांग्रेस विधायक निरंजन पटेल को लगा है जिन्हें पेटलाड नगरपालिका के वार्ड संख्या दो और पांच से हार मिली है. उनके बेटे सौरभ पटेल को भी इसी नगरपालिका में बीजेपी से हार मिली है।

आनंद के सोजित्रा से कांग्रेस विधायक पूनमभाई परमार के बेटे विजय परमार को भी बीजेपी उम्मीदवार से तारापुर तालुका पंचायत के मोराज सीट से हार मिली है जबकि उनके भतीजे निकुंज परमार को भी हार का सामना करना पड़ा है. खेडब्रह्मा से कांग्रेस विधायक अश्विन कोतवाल के बेटे यश कोतवाल को भी साबरकांठा के आदिवासी बहुत विजयनगर तालुका पंचायत के चैतरिया से हार मिली है।

भिलोडा से कांग्रेस विधायक अनिल जोशियारा के बेटे केवल को भी अरावली जिले के भिलोड़ा तालुका पंचायत के उपसल सीट से हार मिली, गिर सोमनाथ के उना से छह बार के कांग्रेस विधायक पंजा वंश के बेटे परेश वंश को भी बीजेपी प्रत्याशी से राजपाड़ा से हार मिली है।

देवभूमि द्वारका के खम्भालिया से कांग्रेस विधायक विक्रम मदम को जिला पंचायत के वडतारा सीट से बेटे करण की हार देखनी पड़ी है जबकि पूर्व गुजरात प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अर्जुन मोढवाडिया के भाई रामदेव मोढवाडिया को पोरबंदर तालुका पंचायत के किंदरखेड़ा सीट से हार का सामना करना पड़ा है।

सोर्स – एबीपी न्यूज़

loading...