सूरत में साफ़ हुआ कांग्रेस का सूपड़ा तो संजय राउत ने लिए मजे, कहा- कांग्रेस का पतन लोकतंत्र के लिए..?

गुजरात नगर-निगम चुनाव के नतीजे जारी कर दिए गए हैं, भाजपा ने जबर्दस्त प्रदर्शन करते हुए सभी छह नगर निगमों अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा, जामनगर, भावनगर और राजकोट में जीत हासिल की, वहीँ पहली बार चुनावी मैदान में उतरी ‘आम आदमी पार्टी’ का सूरत में ठीक-ठाक प्रदर्शन रहा है, जबकि कांग्रेस की करारी हार हुई है, सूरत तो कांग्रेस मुक्त ही हो गया.

सूरत में कांग्रेस की करारी हार के बाद संजय राउत ने कहा कि कांग्रेस का पतन लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है, शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता संजय राउत ने कहा, सूरत में AAP को चुन गया तो अब कांग्रेस को सोचना पड़ेगा और हम सबको भी सोचना पड़ेगा। कांग्रेस जैसे पार्टी को गुजरात और अन्य राज्यों ने नकारा है, कांग्रेस का इस तरह से पतन होना लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है.

सूरत में 120 सीटों पर हुए चुनाव में कांग्रेस का खाता नहीं खुल सका, सभी सीटों पर कांग्रेस प्रत्याशियों का सूपड़ा साफ़ हो गया, भाजपा ने सर्वाधिक 93 सीटें जीतीं वहीँ आम आदमी पार्टी ने 27 सीटों पर जीत दर्ज की. पहली बार गुजरात निकाय चुनाव में उतरी आम आदमी पार्टी सूरत नगर निगम में कांग्रेस को पछाड़ते हुए प्रमुख विपक्षी दल बनकर उभरी है.

सूरत नगर निगम में भाजपा भले ही भारी बहुमत से सत्ता पर काबिज हो गई है, लेकिन आम आदमी पार्टी की एंट्री ने कांग्रेस की नींद हराम कर दी है. सूरत में आम आदमी पार्टी को सबसे बड़ा फायदा पाटीदार समुदाय से मिला है. गुजरात कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल भी पाटीदार समुदाय से आते हैं लेकिन उनका जादू नहीं चल सका चुनाव में.