सिख भाइयों के दिमाग में भरी जा रही गलत चीजें: पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज राज्‍यसभा में राष्‍ट्रपति के अभिभाषण पर धन्‍यवाद प्रस्‍ताव का जवाब दिया, इस दौरान पीएम मोदी ने कृषि कोरोना से लेकर कृषि कानून और किसान आंदोलन तक पर बात की, पीएम मोदी ने कहा कि कुछ लोग सिख भाइयों के दिमाग में अनाप-शनाप चीजें भर रहे हैं ये गलत है..गौरतलब है कि राजधानी दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर पिछले लगभग 75 दिनों से हजारों किसान कृषि कानून के विरोध में आंदोलन कर रहे हैं इसमें ज्यादातर पंजाब के सिख किसान हैं…

किसानों के मुद्दे पर प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले की सरकारों की सोच में छोटा किसान था क्या? जब हम चुनाव आते ही एक कार्यक्रम करते हैं कर्जमाफी, ये वोट का कार्यक्रम है या कर्जमाफी का ये हिन्दुस्तान का नागरिक भली भांति जानता है। लेकिन जब कर्जमाफी करते हैं तो छोटा किसान उससे वंचित रहता है, उसके नसीब में कुछ नहीं आता है। पहले की फसल बीमा योजना भी छोटे किसानों को नसीब ही नहीं होती थी। यूरिया के लिए भी छोटे किसानों को रात-रात भर लाइन में खड़े रहना पड़ता था, उस पर डंडे चलते थे।

शरद पवार, कांग्रेस और हर सरकार ने कृषि सुधारों की वकालत की है कोई पीछे नहीं है। मैं हैरान हूं अचानक यूटर्न ले लिया। आप आंदोलन के मुद्दों को लेकर इस सरकार को घेर लेते लेकिन साथ-साथ किसानों को कहते कि बदलाव बहुत जरूरी है तो देश आगे बढ़ता। पीएम ने कहा कि हमें एक बार देखना चाहिए कि कृषि परिवर्तन से बदलाव होता है कि नहीं। कोई कमी हो तो उसे ठीक करेंगे, कोई ढिलाई हो तो उसे कसेंगे। मैं विश्वास दिलाता हूं कि मंडियां और अधिक आधुनिक बनेंगी। एमएसपी है, एसएसपी था और एमएसपी रहेगा।