किसान नेता राकेश टिकैत को गिरफ़्तार कर सकती है मध्य प्रदेश पुलिस, 2012 का है मामला

26 जनवरी 2021 को किसानों द्वारा निकाले गए ट्रैक्टर परेड की आड़ में दिल्ली में हुई हिंसा के बाद भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत सुखियों में हैं, टिकैत पर गिरफ़्तारी की तलवार भी लटक रही है, 8 मार्च को मध्य प्रदेश के श्योपुर में राकेश टिकैत की रैली होनी है, एमपी आने पर उन्हें गिरफ्तार किया जा सकता है. टिकैत के खिलाफ साल 2016 में ही एमपी का एक अदालत ने अरेस्ट वारंट जारी किया था. इसी मामले में उनकी गिरफ्तारी की जा सकती है. पुलिस ने इसकी सारी तैयारियां कर ली हैं. हालांकि इसपर खुलकर कोई बयान नहीं दे रहा है.

बता दें कि मध्य प्रदेश में टिकैत के खिलाफ एक मामला पहले से लंबित है. साल 2012 में अनूपपुर जिले में उनके खिलाफ हत्या की कोशिश और अव्यवस्था फैलाने के मामले में अरेस्ट वारंट जारी हो चुका है. अनूपपुर के जैतहरी इलाके में पावर प्लांट के खिलाफ प्रदर्शन का नेतृत्व करने 2012 में टिकैत यहां आए थे. प्रदर्शन के दौरान बड़े पैमाने पर हिंसा हुई थी.

प्रदर्शनकारियों ने कई वाहनों में आग लगा दी थी, जिसमें कई पुलिसकर्मी भी घायल हुए थे. पुलिस ने इस मामले में टिकैत सहित 100 से ज्यादा लोगों के खिलाफ अव्यवस्था फैलाने, हथियारों के साथ अवैध रूप से प्रदर्शन करने और हिंसा फैलाने तथा हत्या की कोशिश करने का मामला दर्ज किया गया था. टिकैत को 2012 में ही इस मामले में जमानत मिल गई थी, लेकिन इसके बाद वे अदालत के सामने कभी पेश नहीं हुए. कई सुनवाइयों में अनुपस्थित रहने के बाद 2016 में इनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट अदालत ने जारी किया था.