चमोली हादसा: मृतकों के परिजनों को मिलेगी 6 लाख की आर्थिक सहायता, राज्य और केंद्र सरकार ने की घोषणा

उत्तराखंड के चमोली जिले में ग्लेशियर टूटने से भारी तबाही की आशंका है। इसके चलते अलकनंदा और धौली गंगा उफान पर हैं। पानी के तेज बहाव में कई घरों के बहने की आशंका है। आस-पास के इलाके खाली कराए जा रहे हैं। हरिद्वार तक अलर्ट जारी कर दिया है, मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी घटनास्थल का दौरा किया।

तपोवन में एनटीपीसी की साइट से तीन शव बरामद किए गए हैं. अब तक आठ शव बरामद हो चुके हैं. ऋषिगंगा पर बनी एक बिजली परियोजना को भी भारी नुकसान पहुंचा है. दोनों साइटों पर कई लोगों के फंसे होने की आशंका जताई जा रही है. रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है. उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा, मृतकों के परिवारों को 4 लाख रुपये की वित्तीय सहायता देगी राज्य सरकार। वहीं प्रधानमंत्री राहत कोष से भी मृतक के परिवारों को दो लाख का मुवावजा दिया जायेगा, घायलों को भी 50 हजार मिलेगा प्रधानमंत्री राहत कोष की ओर से।

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राज्य में आई आपदा को लेकर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से बात की. बाढ़ से चमोली जिले के निचले इलाकों में खतरा देखते हुए राज्य आपदा प्रतिवादन बल और जिला प्रशासन को सतर्क कर दिया गया है. साथ ही लोगों से अपील की गई है कि वे गंगा नदी के किनारे पर न जाएं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह उत्तराखंड के हालात पर नजर बनाए हुए हैं. साथ ही उत्तराखंड को केंद्र की ओर से हर संभव मदद का भरोसा दिया गया है.

loading...