पंजाबियों ने भाजपा के खिलाफ दिखाई नफरत, निकाय चुनाव में बुरी तरह हराया

कृषि कानून के विरोध में आंदोलन कर रहे पंजाबी किसान पहले से ही भाजपा को सबक सिखाने की धमकी दे रे रहे थे, अब सबक सिखा भी दिया है, पंजाब निकाय चुनाव में भाजपा की बुरी हार हुई है, वहीँ कांग्रेस की बम्पर जीत हुई है, राज्य में कुल 117 निकायों पर हुए चुनाव के नतीजे आज घोषित किये जा रहे हैं, किसान आंदोलन के चलते यह चुनाव दिलचस्प हो गया, जैसे-जैसे चुनाव रिजल्ट सामने आए हर जगह से बीजेपी को निराशा हाथ लगी। कांग्रेस के साथ सफलता लगी. अकाली दल का भी प्रदर्शन अभी तक ठीक-ठाक रहा है..हालाँकि बीजेपी को करारी हार का सामना करना पड़ रहा है। यहां तक की बीजेपी सरकार में मंत्री रहे तीक्ष्ण सूद की पत्नी तक चुनाव हार गईं।

निकाय चुनाव में बीजेपी को मायूसी हाथ लगी है और इसके पीछे वजह किसानों का गुस्सा माना जा रहा है। किसान आंदोलन का सबसे ज्यादा असर पंजाब और हरियाणा में है और निकाय चुनाव के नतीजों में यह साफ झलक रखा है।

पठानकोट नगर निगम में कांग्रेस ने बाजी मार ली है. यहां अबतक 30 वार्ड पर कांग्रेस, 9 पर बीजेपी की जीत हुई है, जबकि एक पर निर्दलीय जीता है. पटियाला जिले के नाभा नगर काउंसिल में कांग्रेस की जीत हुई है. यहां कुल 23 वार्ड हैं, जिनमें से 14 कांग्रेस, 4 अकाली दल और तीन निर्दलीयों के खाते में गए हैं।

loading...