बालाकोट एयरस्ट्राइक के 2 साल: आतंकी मरे थे पाकिस्तान में, दर्द हुआ था भारत के विपक्षी नेताओं को

300-pakistani-terrorists-killed-number-confirmed-by-mobiles

पुलवामा में हुए आतंकी हमलें का बदला लेते हुए भारतीय वासयुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में एयरस्ट्राइक करके आतंकियों को सफाया कर दिया था, बालाकोट एयरस्ट्राइक को आज यानी 26 फरवरी को दो साल पूरे हो गए, भारत ने घर में घुसकर मारा, पाकिस्तान को इसकी भनक भी नहीं लगी थी। 14 फरवरी को हुए जम्मू-कश्मीर के पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत ने 26 फरवरी की देर रात इसका बदला लिया था और पाकिस्तान के बालाकोट में स्थित जैश के आतंकी कैंप को नेस्तानबूद कर दिया था। भारतीय वायुसेना के इस एयर स्ट्राइक में जैश के करीब 250 से अधिक आतंकवादियों को मार गिराया था।

भारतीय वायुसेना द्वारा की गई एयरस्ट्राइक में मारे गए थे आतंकी, लेकिन दर्द हुआ था भारत में बैठे कुछ विपक्षी नेताओं को, ये विपक्षी सेना के शौर्य पर सवाल उठाते हुए सबूत तक की डिमांड कर डाली। टीएमसी प्रमुख ममता बनर्जी ने कहा था कि ‘विपक्ष होने के नाते हम ऑपरेशन और एयरस्ट्राइक की पूरी जानकारी चाहते हैं. सरकार बताए कि कहां बम गिराए गए, कितने लोग उसमें मारे गए? कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने एयरस्ट्राइक पर सवाल उठाते हुए कहा था, ‘जिस तरह अमेरिका ने ओसामा बिन लादेन के खिलाफ कार्रवाई के सबूत जारी किए थे, उसी तरह हमें भी एयर स्ट्राइक के सबूत जारी करने चाहिए।

राहुल गाँधी ने एयरस्ट्राइक का सबूत मांगते हुए कहा था, कांग्रेस के कुछ लोगों ने चर्चा की है, उसमें मैं नहीं जाना चाहता, लेकिन पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ के जो जवान शहीद हुए हैं उनके परिवार वालों ने एक मांग उठाई है। उनकी भवना है कि हमें दुख पहुंचा है तो हमें दिखाइए कि क्या हुआ।

सीपीआई महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा था कि बालाकोट में भारतीय वायुसेना की ओर से की गई एयर स्‍ट्राइक के सबूत केवल हम नहीं मांग रहे बल्‍कि पूरी दुनिया मांग रही है. इस मामले पर सरकार को सही जानकारी देनी ही होगी।

loading...