तांडव पर भड़के स्वामी चक्रपाणि, बोले- हिंदू धर्म का अपमान करने वालों को फांसी पर लटका देना चाहिए

बॉलीवुड एक्टर सैफ अली खान की वेब सीरीज “तांडव” शुक्रवार ( 15 जनवरी, 2021 ) को रिलीज़ हुई, रिलीज होते ही यह वेब सीरीज विवादों में आ गई है, ‘तांडव’ के डायलॉग्स और सीन को लेकर दर्शकों ने नाराजगी जाहिर की है। वेब सीरीज के पहले एपिसोड में दिखाया गया है कि ऐक्टर जीशान अय्यूब यूनिवर्सिटी के फंक्शन में भगवान शिव के वेश में दिखाई दे रहे हैं। बहुत से लोग से भगवान शिव का इस तरह से रूप दिखाने और भगवान राम के बारे में टिप्पणी करने पर गुस्सा निकाल रहे हैं।

तांडव वेब सीरीज में दलितों का भयानक अपमान किया गया है, हिन्दू और मुसलमान को लड़ाने और भड़काने वाली बातें की गयी हैं. बहुसंख्यक हिन्दू धर्म का अपमान बार-बार करने की कोशिश की गई हैं तांडव वेब सीरीज में…पुलिस अधिकारीयों का अपमान करने की कोशिश की गई है…ये एक जहर से भरी हुई वेब सीरीज है. जो इस देश में अव्यवस्था फैलाना चाहती है. इस वेब सीरीज में ऐसा कंटेंट जानबूझकर डाला गया है ताकि जातिगत हिंसा और धार्मिक हिंसा को बढ़ावा दे।

ताँडव वेब सीरीज पर गुस्सा जाहिर करते हुए संत स्वामी चक्रपाणि ने कहा है कि हिन्दू धर्म का अपमान करने वालों को फांसी पर लटका देना चाहिए। अखिल भारतीय हिंदू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि महाराज ने मांग की है कि फिल्मों और वेब सीरीज के जरिए हिंदू सनातन धर्म का अपमान करने वालों को फांसी पर लटका देना चाहिए।

स्वामी चक्रपाणि महाराज ने कहा है, “वेब सीरीज ‘तांडव’ के जरिए हिंदू देवी-देवताओं का अपमान करना बॉलीवुड जिहाद है। आखिर केंद्र में मोदी सरकार के बहुमत होने के बाद भी हिंदू सनातन धर्म के खिलाफ फिल्में और वेब सीरीज क्यों बनाई जा रही हैं? तांडव का ताबड़तोड़ विरोध होने के बाद इसके डायरेक्टर अली अब्बास ने माफ़ी मांग ली है, लेकिन लोगों का कहना है कि माफ़ी से काम नहीं चलेगा।