कृषि कानून पर रोक लगा सकता है सुप्रीम कोर्ट, CJI ने कहा- सरकार हल नहीं निकाल पा रही है

कृषि कानून और किसान आंदोलन को लेकर कई याचिकाएं दायर की गई थी, जिसपर आज सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की, अटॉर्नी जनरल ने कहा कि सभी पक्षों में बातचीत जारी रखने पर सहमति है..चीफ जस्टिस ने टिप्पणी करते हुए कहा कि हम बहुत निराश हैं। पता नहीं सरकार कैसे मसले को डील कर रही है? किससे चर्चा किया कानून बनाने से पहले? कई बार से कह रहे हैं कि बात हो रही है। क्या बात हो रही है?

सुनवाई के दौरान सॉलिसीटर जनरल ने कहा कि बहुत बड़ी संख्या में किसान संगठन कानून को फायदेमंद मानते हैं, सीजेआई ने कहा कि हमारे सामने अब तक कोई नहीं आया है जो ऐसा कहे। अगर एक बड़ी संख्या में लोगों को लगता है कि कानून फायदेमंद है तो कमिटी को बताएं। सीजेआई ने टिप्पणी की, आप बताइए कि कानून पर रोक लगाएंगे या नहीं। नहीं तो हम लगा देंगे। चीफ जस्टिस ने आगे कहा कि आप ( केंद्र सरकार ) हल नहीं निकाल पा रहे हैं। लोग मर रहे हैं। आत्महत्या कर रहे हैं। महिलाओं और वृद्धों को भी बैठा रखा है। हम कमिटी बनाने जा रहे हैं। सीजेआई ने कहा कि चाहे आपको हम पर भरोसा हो या नहीं। हम देश का सुप्रीम कोर्ट हैं। अपना काम करेंगे।

loading...