मुंबई के आजाद मैदान में पहुंचे शरद पवार, कहा- क्या दिल्ली में आंदोलन कर रहे किसान पाकिस्तान के हैं?

केंद्र सरकार द्वारा बनाये गए तीन नए कृषि कानून के विरोध में लगभग दो महीनें से हजारों किसान दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे हैं, कृषि क़ानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने के लिए महाराष्ट्र के अलग-अलग हिस्सों से किसान मुंबई के आज़ाद मैदान में जमा भी हुए। एक प्रदर्शनकारी ने बताया, “जब तक कानून वापस नहीं होंगे किसानों का आंदोलन नहीं रूकेगा। हम आज रैली करने के बाद राज्यपाल को ज्ञापन देने जाएंगे।

आजाद मैदान में कृषि कानून के विरोध में प्रदर्शन कर रहे लोगों का समर्थन करने एनसीपी प्रमुख शरद पवार व् कांग्रेस नेता बालासाहेब थोराट भी पहुंचे। इस दौरान पवार ने कहा- क्या दिल्ली में आंदोलन कर रहे किसान पाकिस्तान के हैं?

दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में मुंबई में किसान रैली को संबोधित करते NCP प्रमुख शरद पवार ने कहा- ठंड के मौसम में पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसान पिछले 60 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं। क्या प्रधानमंत्री ने उनके बारे में पूछताछ की है? क्या ये किसान पाकिस्तान के हैं? आजाद मैदान में जुटी भीड़ मुंबई के राजभवन की ओर बढ़ रही थी लेकिन पुलिस ने सभी को रोक दिया।

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि मोदी सरकार किसान और कृषि दोनों के हितों के प्रति प्रतिबद्ध है,PM जी के नेतृत्व में विगत 6 वर्षों में किसान की आमदनी बढ़ाने,खेती को नई तकनीक से जुड़ने के लिए अनेक प्रकार की योजनाएं और प्रयास किए गए हैं। MSP को डेढ़ गुना करने का काम भी PM के नेतृत्व में हुआ.

गौरतलब है कि आंदोलनकारी किसानों और केंद्र सरकार के बीच अबतक 11 राउंड की बातचीत हो चुकी है लेकिन कोई हल नहीं निकल सका है, अब बातचीत की अगली तारिख भी तय नहीं है, एक ओर किसान जहाँ कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग पर अड़े हैं तो वहीँ दूसरी ओर सरकार इस कानून को किसानों के हित में बता रही है।