महाराष्ट्र: सरकारी अस्पताल में आग लगने से 10 बच्चों की मौत, संजय निरुपम ने ठाकरे सरकार पर दागे सवाल

महाराष्ट्र के भिण्डारा जिले में स्थित सरकारी अस्पताल में एक हृदय विदारक घटना हुई है, आग लगने की वजह से 10 नवजात शिशुओं की ज़िंदा जलकर मौत हो गई. इस घटना पर दुःख व्यक्त करते हुए कांग्रेस नेता संजय निरुपम ने ठाकरे सरकार पर गंभीर सवाल दागे हैं..संजय निरुपम ने कहा कि अस्पताल में जहाँ मासूम बच्चे थे वहीं आग क्यों लगी, इसके अलावा उन्होंने कहा कि बच्चों के शोकाकुल माता-पिता को सरकार सहारा दे।

महाराष्ट्र कांग्रेस के दिग्गज नेता संजय निरुपम ने अपने ट्वीट में लिख, ‘भंडारा जिले के सरकारी अस्पताल में दर्दनाक घटना घटी है। एक आगजनी में दस नवजात बच्चे दुनिया देखने से पहले जलकर ख़ाक हो गए। यह रुलाने वाला हादसा है। बच्चों के शोकाकुल माता-पिता को सरकार सहारा दे। अस्पताल में जहाँ मासूम बच्चे थे वहीं आग क्यों लगी,इसकी जाँच जरूरी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, भंडारा जिला अस्पताल में यह दर्दनाक घटना शुक्रवार रात करीब दो बजे घटी, इस वॉर्ड में कुल कुल 17 बच्चे मौजूद थे, 10 बच्चों की मूत हो गई जबकि 7 बच्चों को रेस्क्यू ऑपरेशन चलाकर 7 बच्चों को सुरक्षित बाहर निकाला गया. दुनिया देखने से पहले नवजात बच्चों की हुई दर्दनाक मौत से उनके परिजनों पर कोहराम टूट पड़ा है. मृतक बच्चों के परिवारों का रो-रोकर बुरा हाल है.

इस दुखद घटना पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने दुःख व्यक्त करते हुए कहा कि भंडारा ज़िला अस्पताल में लगी आग दुर्घटना बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। मेरी संवेदनाएं शोक संतप्‍त परिवारों के साथ हैं। भगवान उन्हें इस अपूरणीय क्षति को सहन करने की शक्ति दे…महाराष्ट्र CMO ने कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने ज़िला अस्पताल में आग लगने की घटना को लेकर स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे के साथ-साथ भंडारा ज़िले के ज़िला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक से बात की। उन्होंने जांच का भी आदेश दिया है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने इस घटना पर दुःख व्यक्त करते हुए कहा कि महाराष्ट्र के भंडारा में हुए अग्नि हादसे में शिशुओं की असामयिक मृत्यु से मुझे गहरा दुख हुआ है। इस ह्रदय विदारक घटना में अपनी संतानों को खोने वाले परिवारों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना।

loading...