तथाकथित किसानों पर फूटा लोगों का गुस्सा, सिंघु बॉर्डर खाली कराने पहुंचे आम लोग!

image credit @Saurabh_Unmute

पिछले लगभग 2 महीनें से सिंघु बॉर्डर पर कब्जा कर बैठे तथाकथित किसानों पर अब आम जनता का गुस्सा फूट पड़ा है, सिंघु बॉर्डर को खाली कराने के लिए आसपास के गांव लोग धरना स्थल पर पहुँच चुके हैं और वहां बैठे तथाकथित किसानों को तुरंत सिंघु बॉर्डर खाली करने के लिए कह रहे हैं…इन लोगों ने ट्रैक्टर मार्च के दौरान हुई हिंसा पर भी आक्रोश जताया है…सिंघु बॉर्डर खाली कराने पहुंचे लोगों का कहना है, तिरंगे का अपमान नहीं सहेगा हिंदुस्तान, सिंघु बॉर्डर अब तुरंत खाली होना चाहिए। यानि अब सिंघु बॉर्डर पर यह तथाकथित किसान अब लम्बे समय तक नहीं बैठ सकते।

गणतंत्र दिवस पर किसान की खाल ओढ़े उपद्रवियों ने दिल्ली में जो आतंक मचाया, उससे पूरी दिल्ली सहम गयी, यही वजह है कि अब आम दिल्लीवाली इन तथाकथित किसानों से तंग आ चुके हैं और बॉर्डर खाली कराने के लिए खुद मोर्चा संभाल लिए हैं..दिल्ली में दूध वगैरा बाहर से आता है…2 महीनें से किसान सिंघु बॉर्डर समेत दिल्ली की कई सीमाओं को जाम कर बैठे हैं, ऐसे में आम दिल्लीवाली को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

आपको बता दें कि सिंघु बॉर्डर पर ही भारी मात्रा में तथाकथित किसान बैठे हैं, सिंघु बॉर्डर से ही तथाकथित आंदोलन की दिशा-दशा तय होती है, किसानों का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा सिंघु बॉर्डर से ही प्रेस-कॉन्फ्रेंस करते हैं.

वहीँ बात करें गाजीपुर बॉर्डर की तो गाजीपुर बॉर्डर से किसानों को हटाने की तैयारी पूरी है, भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात है, साथ यूपी परिवहन की बसें भी मंगा ली गयी हैं। ताकि इन बसों में भरकर किसानों को उनके गंतव्य पर भेजा जा सके. दिल्ली पुलिस ने भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत को नोटिस जारी करते हुए पूछा कि 26 जनवरी को ट्रैक्टर रैली को लेकर पुलिस के साथ हुए समझौते को तोड़ने के लिए उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई क्यों न की जाए।

loading...