लाल किले पर झंडा लगाने वाली उपद्रवी की हुई पहचान, तलाश में जुटी पुलिस, घर छोड़कर भागा उपद्रवी

तस्वीर साभार - Zee News

कृषि कानून के विरोध में गणतंत्र दिवस के दिन किसान के वेश में छुपे दंगाइयों ने पूरी दिल्ली में जमकर आतंक मचाया, दंगाइयों ने लालकिले पर अपना झंडा फहरा दिया, लाल किले पर जिस उपद्रवी ने झंडा लगाया था, उसकी पहचान हो चुकी है और उस उपद्रवी को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस लगातार दबिश दे रही है, खबर है कि उपद्रवी परिवार समेत घर छोड़कर फरार हो गया है.

गणतंत्र दिवस पर दिल्ली हिंसा के दौरान लाल क़िला पर झंडा लगाने वाले की उपद्रवी पहचान पंजाब में तरनतारन के गांव तारा सिंह के जुगराज सिंह के तौर पर की गई है. पुलिस लगातार दबिश दे रही है. परिजन भी फरार हो गए हैं…टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक झंडा लगाने वाले जुगराज सिंह के परिवार के सदस्य और उसके समर्थक ग्रामीण पुलिस कार्रवाई के डर से गांव से फरार हो गए हैं…जैसे ही पुलिस द्वारा सख्ती किए जाने की भनक लगी, जुगराज के माता-पिता घर में बुजुर्गों को छोड़कर भाग गए हैं.

ग्रामीणों का कहना है कि पुलिस जुगराज के घर पर लगातार दबिश दे रही है लेकिन हर बार उसे खाली हाथ लौटना पड़ा. जुगराज सिंह मैट्रिक पास है. 24 जनवरी को गांव से दो ट्रैक्टर ट्रालियां किसान आंदोलन के लिए दिल्ली रवाना हुई थीं. जुगराज सिंह भी इनके साथ ही दिल्ली चला गया था.

गौरतलब है कि किसानों की ट्रेक्टर परेड के दौरान सैकड़ों उपद्रवियों ने तलवार के बल पर लालकिले पर कब्जा कर लिया और अपना एक पीला झंडा लगा दिया, जिस पोल पर इस उपद्रवी ने झंडा लगाया उसपर भारत के प्रधानमंत्री 15 अगस्त को तिरंगा फहराते हैं…यानि इस व्यक्ति ने लालकिले पर तिरंगे के अलावा दूसरा झंडा लगाकर जो कुकृत्य किया है, उसकी तो सजा मिलनी ही चाहिए। सोशल मीडिया पर एक एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें देखा जा सकता है कि पोल पर चढ़ते वक्त इस उपद्रवी ने तिरंगे को नीचे फेंक दिया था।

loading...