बड़ी खबर: चीन के चमचे नेपाली प्रधानमंत्री केपी ओली के बुरे दिन शुरू, पार्टी ने लिया बड़ा एक्शन

चीन के प्रति झुकाव रखने वाले नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के अब बुरे दिन शुरू हो चुके हैं, अब ओली को खुद की पार्टी ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है, केपी शर्मा ओली नेपाल की रूलिंग पार्टी नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के नेता थे लेकिन इनकी गलत करतूतों की वजह से पार्टी ने इन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया है…मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की केंद्रीय समिति की बैठक हुई उसके बाद केपी ओली को सर्वसम्मति से पार्टी से बाहर का रास्ता दिखाए जानें का निर्णय लिया गया।

आपको बता दें कि चीन की चाल में फंसकर केपी ओली फिलहाल भारत से भी सम्बन्ध खराब कर चुके हैं और उधर चीन ने भी पीठ में छूरा घोंप दिया है, जी हाँ! ओली के राज में नेपाल की जनता त्राहि-त्राहि कर रही है, नेपाल के कई गावों पर चीन ने कब्जा भी कर लिया है.

ओली ने चीन के इशारे पर भारत से अपने सम्बन्ध खराब कर लिए जिसका नतीजा अब पूरे नेपाल की जनता को भुगतना पड़ रहा है। भारत और नेपाल को सदियों से मिली-जुली संस्कृति एक करती रही है। दोनों देशों के बीच बेटी-रोटी का रिश्ता इतना गहरा कि कभी लगा ही नहीं कि दो देश हैं। परन्तु हाल के दिनों में नेपाली सरकार ने भारत के साथ संबंधों में खटास पैदा कर दिया है।

भारत से सम्बन्ध बिगाड़ने के बाद नेपाल में अब महंगाई ने हाहाकार मचाना शुरू कर दिया है, रोजमर्रा के सामान की कीमतें आसमान छू रही हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, नेपाल में नमक 60 रुपये (सौ नेपाली करेंसी) प्रति किलोग्राम बिक रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, नेपाल में पहले पहले नमक का दाम प्रति किलो 16 नेपाली करेंसी था, अब 100 नेपाली करेंसी हो गया है। सरसों तेल दो सौ की जगह आठ सौ प्रति लीटर, चीनी 70 की जगह चार सौ प्रति किलो, जीरा चार सौ की जगह दो हजार, काली मिर्च 1600 की जगह 3500, हल्दी 250 की जगह आठ सौ और अरहर दाल 150 की जगह 700 प्रति किलो नेपाली करेंसी बिक रहा। बता दें कि सौ नेपाली करेंसी का मूल्य 60 रुपये होता है।