फर्जीवाड़ा करते पकड़े गए संजय सिंह, नोटिस भेजने की तैयारी में लखनऊ विश्वविद्यालय

साभार - संजय सिंह ट्विटर

उत्तर प्रदेश में होने वाले पंचायत और विधानसभा चुनाव को लेकर ‘आम आदमी पार्टी’ ने तैयारी शुरू कर दी है, लेकिन पार्टी में 30 दिसंबर को शामिल हुई प्रोफेसर पूजा शर्मा पर विवाद खड़ा हो गया है…मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आम आदमी पार्टी ने जानकारी दी है कि पूजा शर्मा लखनऊ यूनिवर्सिटी की प्रोफेसर हैं..लखनऊ यूनिवर्सिटी की मानें तो पूजा शर्मा नाम की कोई प्रोफेसर है ही नहीं। विवि प्रसाशन का कहना है कि ‘आप’ द्वारा भ्रामक जानकारी फैलाई गई है.

लखनऊ विश्वविद्यालय अब ‘आम आदमी पार्टी’ को नोटिस भेजने की योजना बना रहा है, वहीँ इस मसले पर आम आदमी पार्टी के पदाधिकरियों ने चुप्पी साध रखी है…30 दिसंबर, 2020 को लखनऊ के गोमतीनगर में स्थित ‘आम आदमी पार्टी’ के कार्यालय में आप के राज्यसभा सांसद संजय सिंह की मौजूदगी में मंडलायुक्त रही कुसुम शर्मा और पूजा शर्मा समेत कई लोग शामिल हुए थे.

आम आदमी पार्टी की तरफ से जारी प्रेस नोट में पूजा शर्मा को लखनऊ विश्वविद्यालय का प्रोफेसर बताया गया था, 31 दिसंबर को कई अखबारों में खबर भी छपी थी, इसके बढ़ लखनऊ विश्वविद्यालय के प्रवक्ता दुर्गेश श्रीवास्तव ने इस पर आपत्ति जताते हुए समृद्धि न्यूज़ से कहा कि ‘आम आदमी पार्टी’ को बताना चाहिए कि पूजा शर्म लखनऊ विवि के किस विभाग में कार्यरत हैं..उन्होंने दावा किया कि वह इन पूजा शर्मा जो जानते नहीं, उन्होंने कहा कि इस सम्बन्ध में विवि आम आदमी पार्टी को नोटिस जारी करेगा।

इस मामलें का खुलासा होने के बाद एक तरफ जहां भाजपा आम पार्टी पर निशाना साध रही है तो वहीँ आप के जिम्मेदार लोग इस मसले पर कुछ भी बोलने से बच रहे हैं…यहाँ तक कि अभी संजय सिंह ने भी कोई स्पष्टीकरण नहीं दिया है…गौरतलब है कि आप मुखिया अरविन्द केजरीवाल ने पिछले महीनें एलान किया था कि आम आदमी पार्टी यूपी में चुनाव लड़ेगी।

loading...