साजिश बेनकाब: सिंघु बॉर्डर पर पकड़े गए संदिग्ध ने लिया जिस SHO का नाम, उस नाम का कोई SHO है ही नहीं

image credit - @PunYaab

केंद्र सरकार द्वारा बनाये गए तीन नए कृषि कानूनों के विरोध में पिछले लगभग 2 महीनों से दिल्ली बॉर्डर पर हजारों किसान आंदोलन कर रहे हैं, अबतक सरकार और किसानों के बीच 11 दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन कोई हल नहीं निकल सका है, अब इस आंदोलन में तमाम प्रकार की साजिशें भी शुरू हो गई है..

दरअसल किसान नेताओं ने दावा किया कि उन्होंने सिंघु बॉर्डर पर एक संदिग्ध शूटर को पकड़ा है, जो चार किसान नेताओं की ह्त्या करना चाहता था, राकेश टिकैत समेत कई किसान नेताओं की मौजूदगी में संदिग्ध ने प्रेस-कॉन्फ्रेंस में कबूल किया कि वह 26 जनवरी को स्टेज पर चार किसान नेताओं को मारने के उद्देश्य से आया था.

पकड़ा गया यह संदिग्ध युवक हरियाणा के सोनीपत का बताया जा रहा है, प्रेस-कॉन्फ्रेंस के दौरान संदिग्ध ने राई थाने के एक SHO प्रदीप का नाम लिया, आजतक की पड़ताल में सामने आया है कि राई थाने में प्रदीप नाम का कोई SHO है नहीं। संदिग्ध ने कहा, किसान नेताओं की हत्या करने का निर्देश उसे सोनीपत के राई थाने के SHO प्रदीप ने दिए थे.

इसके बाद सच्चाई जानने के लिए आजतक के क्राइम रिपोर्टर अरविन्द ओझा ने राई थाने का रुख किया, उसके बाद जो जानकारी मिली चौंकाने वाली है, आजतक के मुताबिक, राई थाने में प्रदीप नाम का कोई SHO है ही नहीं, जो SHO हैं उनका नाम विवेक मलिक है. जो पिछले सात महीनें से यहाँ तैनात हैं. आजतक से बात करते हुए राई थाने के SHO विवेक मालिक ने कहा कि ”मैं खुद प्रेस कांफ्रेंस लाइव सुन रहा था. लड़का बोल रहा है SHO राई ने प्लान बनाया, जबकि एक किसान नेता पीसी में लड़के की बात काट रहे हैं और कह रहे हैं कि हमें नहीं मालूम कि कौन SHO है…न्यूज़ एजेंसी एएनआई द्वारा जारी किये गए वीडियो में देखा जा सकता है कि संदिग्ध कुछ भूलता है और राकेश टिकैत उसको याद दिलाते हैं…

loading...