15 जनवरी को “किसान अधिकार दिवस” के रूप में मनाएगी कांग्रेस, सुरजेवाला ने किया ऐलान

कृषि कानून के खिलाफ कांग्रेस पार्टी लगातार मोदी सरकार पर हमलावर है, अब कांग्रेस पार्टी 15 जनवरी को “किसान अधिकार दिवस” के रूप में मनाएगी गौरतलब है कि कृषि कानून के खिलाफ पिछले 40 दिनों से दिल्ली बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी है।

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि लाखों अन्नदाता 40 दिन से अधिक से दिल्ली की सीमाओं पर काले कानून खत्म करने की गुहार लगा रहे हैं, हाड़ कंपाती सर्दी, बारिश,ओलों में 60 से अधिक अन्नदाता ने दम तोड़ दिया। PM के मुंह से देश पर कुर्बान होने वाले उन किसानों के लिए सात्वंना का एक शब्द भी नहीं निकला.

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि कांग्रेस ने फैसला किया है कि किसानों के समर्थन में 15 जनवरी को हर प्रांतीय हेडक्वार्टर पर कांग्रेस पार्टी किसान अधिकार दिवस के रूप में एक जनआंदोलन तैयार करेगी, धरना प्रदर्शन और रैली के बाद राजभवन तक मार्च करेंगे।

इससे पहले सुरजेवाला ने कहा था कि किसान 21 दिन से सर्दी में, लाखों की संख्या में, दिल्ली के चारों तरफ न्याय की गुहार लगा रहे हैं। मोदी सरकार अब ईस्ट इंडिया कंपनी से भी बड़ी व्यापारी कंपनी बन गई है। जो किसान की मेहनत की गंगा को मैली कर मुट्ठी भर पूंजीपतियों को पैसा कमवाना चाहती है। सुरजेवाला ने कहा कि मोदी सरकार अब ‘ईस्ट इंडिया कंपनी’ से भी बड़ी व्यापारी बन गई है। मोदी सरकार किसान से छल-कपट-ढोंग-प्रपंच बंद करे! सत्ता सम्हालते ही मोदी सरकार पूँजीपतियों पर सारे सरकारी संसाधन वार कर किसानों को दरकिनार करती रही है।

उल्लेखनीय है कृषि कानून के विरोध में पिछले 40 दिनों से हजारों की संख्या में किसान दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे हैं, किसानों की मांग है कि तीनों नए कृषि कानून को तत्काल रद्द किया जाय क्योंकि ये कानून किसान विरोधी है. किसानों और सरकार के बीच अबतक 8 दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन नतीजा कोई नहीं निकल सका है।