SC की कमेटी से अलग हुए भूपेंद्र मान, परिवार को विदेशों से मिल रही थी फोन पर धमकियाँ

साभार - asianet news

केंद्र सरकार द्वारा बनाये गए तीनों नए कृषि कानून के अमल पर रोक लगाकर सुप्रीम कोर्ट ने 4 सदस्यीय एक कमिटी गठित की थी, इस कमिटी में भारतीय किसान यूनियन के अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह मान भी थे, लेकिन अब उन्होंने खुद को कमेटी से अलग कर लिया है, उन्होंने एक पत्र लिखकर यह जानकारी दी। पत्र में उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का आभार जताते हुए लिखा है कि वे हमेशा पंजाब और किसानों के साथ खड़े हैं। हालाँकि मीडिया में दावा किया जा रहा है कि विदेशों से भूपेंद्र सिंह मान व् उनके परिवार को धमकियां दी जा रही थी, जिसके बाद उन्होंने यह फैसला लिया।

जी न्यूज़ के पत्रकार जितेंद्र शर्मा ने ट्वीट कर कहा है कि ऑल इंडिया किसान कोऑर्डिनेशन कमेटी के सदस्य ने दावा किया है कि भूपेन्द्र सिंह मान और उनके परिवार को विदेशों से फोन पर धमकियाँ दी जा रही है। डीडी न्यूज़ के एंकर व् वरिष्ठ पत्रकार अशोक श्रीवास्तव ने अपने ट्वीट में लिखा, खबर है कि उन्हें ( भूपेंद्र सिंह मान ) और उनके परिवार को कनाडा से धमकी भरे फोन कॉल आये हैं, जिसके बाद उन्होंने ये फैसला किया l

बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने कृषि कानूनों को लेकर सुनवाई करते हुए चार सदस्यीय कमेटी का गठन किया था। भूपिंदर सिंह मान के अलावा कमेटी के तीन अन्य सदस्य- कृषि अर्थशास्त्री अशोक गुलाटी, अंतरराष्ट्रीय खाद्य नीति अनुसंधान संस्थान के डॉ. प्रमोद कुमार जोशी और महाराष्ट्र के शेतकारी संगठन के अनिल धनवट हैं।

loading...