किसान आंदोलन में मारे गए लोगों के परिवार को मिलेगा 5 लाख मुवावजा और नौकरी, CM अमरिंदर ने की घोषणा

केंद्र सरकार द्वारा बनाये गए तीन नए कृषि कानून के विरोध में हजारों किसान पिछले लगभग 2 महीनें से कडकडाती ठण्ड में दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे हैं, अबतक इस आंदोलन में कई किसानों की मौत हो गई जबकि कइयों ने आत्महत्या कर ली, किसान आंदोलन में जान गंवाने वाले लोगों के परिवार के साथ सहानुभूति व्यक्त करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर ने बड़ा ऐलान किया।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा- मुझे रिपोर्ट मिली कि दिल्ली में तीन कृषि क़ानूनों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान अब तक 76 किसानों का निधन हो चुका है। मैं घोषणा करता हूं कि इनमें से जो पंजाब से हैं उनके परिवार के एक सदस्य को नौकरी देंगे। यही नहीं पांच-पांच लाख रूपये मुवावजा भी दिया जाएगा।

सीएम अमरिंदर सिंह ने अपने फेसबुक लाइव कार्यक्रम ‘आस्क द कैप्टन’ में यह ऐलान किया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने राज्यों से सलाह किए बगैर ये कानून बना दिए हैं जबकि खेती राज्य का विषय है और केंद्र सरकार को इस पर कानून बनाने का अधिकार नहीं है। इसी वजह से पिछले चार महीनों से ठंड , बारिश की परवाह न किए बिना किसान वहां अपनी जमीनों को बचाने के लिए लड़ रहे हैं।

गौरतलब है कि कृषि कानून के विरोध में आंदोलन कर रहे किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच आज को लेकर 11 दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन कोई नतीजा नहीं निकल सका, एक ओर जहाँ किसान कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग पर अड़े हैं तो वहीँ केंद्र सरकार कृषि कानूनों को रद्द न करने के अपने फैसले पर बरकरार है, अभी बातचीत के लिए को नई तारिख नहीं तय की गई है, आंदोलन कर रहे किसानों ने दिल्ली में गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर रैली निकालने का ऐलान किया है।

loading...