दलितों का वोट लेने के लिए अखिलेश यादव ने चली नई चाल, आरक्षण को लेकर दिया ये बड़ा बयान!

2022 में उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर दलित वोटों को साधते हुए सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने आरक्षण को लेकर बड़ी घोषणा की है..उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और सपा मुखिया अखिलेश यादव का कहना है कि सपा की सरकार बनने पर प्रदेश में पदोन्नति में आरक्षण की व्यवस्था लागू करने के साथ ही रिवर्ट किए गए दलित व पिछड़े वर्ग के कर्मियों के दुबारा प्रमोशन दिया जाएगा।

जानकारी के अनुसार, आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के संयोजक अवधेश वर्मा के नेतृत्व में प्रतिनिधियों ने अखिलेश यादव से मुलाकात की थी. मुलाकात में उन्होंने प्रमोशन में आरक्षण बिल को संसद में पास कराने व पिछड़े वर्गों को भी पदोन्नति में आरक्षण देने की व्यवस्था लागू कराने में मदद करने की मांग की थी. अवधेश ने बताया कि करीब एक घंटे तक इस मुद्दे पर चर्चा के बाद सपा अध्यक्ष ने स्वीकार किया कि उनकी सरकार में कुछ गलतियां हो गई हैं.

बता दें कि मायावती सरकार ने राज्य में प्रमोशन में आरक्षण लागू किया था, हालांकि, उत्तर प्रदेश में सत्ता में अखिलेश यादव के आने के बाद करीब 2 लाख दलित कार्मिकों को रिवर्ट किया गया था, जिन्हें मायावती ने प्रमोशन दिया था. अखिलेश सरकार ने आधिकारिक आदेश के जरिए अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के कर्मियों के लिए पदोन्नति को समाप्त कर दिया था।

loading...