बॉम्बे हाईकोर्ट से झटका लगने के बाद सोनू सूद ने खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा!

बॉम्बे हाईकोर्ट से झटका लगने के बाद अब सोनू सूद ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है, बॉलीवुड एक्टर ने याचिका दायर करके मुंबई के जुहू के अपने घर में हुए निर्माण पर बीएमसी के नोटिस को निरस्त करने की मांग की है, हालाँकि इस मामलें पर कब सुनवाई होगी अभी इसकी जानकारी नहीं मिल पाई है.

इससे पहले बॉम्बे हाईकोर्ट ने सोनू सूद को कोई राहत नहीं दी थी, अब अवैध निर्माण पर BMC ही फैसला करेगी, सोनू सूद पर आरोप है कि उन्होंने उपनगर जुहू स्थित रिहायशी इमारत में कथित तौर पर बिना इजाजत ढांचागत बदलाव किया। इसके बाद बीएमसी ने उन्हें नोटिस जारी किया है। इससे पहले बृह्नमुंबई नगर निगम (बीएमसी) ने बॉम्बे हाईकोर्ट में दाखिल हलफनामे में कहा था कि बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद ‘आदतन अपराधी’ हैं , जो पहले दो बार विध्वंस कार्रवाई के बावजूद उपगनरीय जूहू में एक रिहायशी इमारत में अनधिकृत तरीके से निर्माण कार्य करवाते रहे हैं।

बीएमसी ने पिछले साल अक्टूबर में सोनू सूद को नोटिस जारी किया था। उस नोटिस को सूद ने दिसंबर 2020 में दिवानी अदालत में चुनौती दी, लेकिन अदालत ने उनकी याचिका खारिज कर दी। इसके बाद उन्होंने बंबई उच्च न्यायालय का रुख किया। लेकिन यहाँ से भी कोई राहत नहीं मिली। अब सोनू सूद ने देश की सर्वोच्च अदालत का दरवाजा खटखटाया है। बीएमसी ने अपने नोटिस में आरोप लगाया था कि सूद ने छह मंजिला ‘शक्ति सागर’ रिहायशी इमारत में ढांचागत बदलाव कर उसे वाणिज्यिक होटल में तब्दील कर दिया। आपको बता दें कि बीएमसी की इस कार्यवाही के बाद सोनू सूद ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार से मुलाक़ात की. इस मुलाक़ात के अलग-अलग मायने निकाले जा रहे हैं।

loading...