UP: वाहन पर जातिसूचक शब्द लिखने पर होगी कर्यवाही, लोग बोले- जाति लिखे हुए प्रमाणपत्र कब बन्द करेगी सरकार

तस्वीर साभार - Zee News

सड़कों पर अक्सर चलते गाड़ियों पर आपने जातिगत सूचक शब्द लिखा जरूर देखा होगा। आमतौर पर लोग अपनी गाड़ियों पर जाट, यादव, गुर्जर, क्षत्रिय, राजपूत, पंडित, मौर्य जैसे जाति शब्द लिखवा कर चलते हैं। अब इसे लेकर उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने सख्त हो गई है और गाड़ियों पर जाति लिखने वालों को लेकर बड़ा फैसला लिया है।

अब वाहन की नंबर प्लेट या वाहन पर जातीय आधारित सूचक नाम अंकित होने पर वाहन स्वामी को जुर्माना अदा करते हुए अपनी जेब ढीली करनी पड़ेगी। विभाग की ओर से अपर परिवहन आयुक्त प्रशासन मुकेश चंद्र की ओर से जारी पत्र में कहा गया कि कुछ लोग अपने वाहन या उसकी नंबर प्लेट पर जातीय आधारित सूचक नाम या स्टीकर को लगवा लेते है। जोकि नियम विरुद्ध है। उन्होंने जातीय आधारित नाम या स्टीकर लगे वाहनों पर कार्रवाई करने के निर्देश एआरटीओ को दिए हैं, जिसमें इन वाहनों का चालान कर बंद कराने के लिए कहा है।

सरकार के इस फैसले के बाद लोगों का कहना है कि सरकार का ये फैसला अच्छा है लेकिन जाति लिखे हुए प्रमाणपत्र कब बन्द करेगी सरकार? फेमस ट्विटर यूजर भैय्याजी ने लिखा, कार पर जाति लिखना अब कानूनन जुर्म है, मैंने निजी तौर पर तो ऐसा नहीं किया, लेकिन अब क्या व्यक्ति अपनी जाति पर शर्म महसूस करना शुरू कर दे? या तो वर्ण व्यवस्था खत्म कर दो, वरना जन्म से लेकर मृत्यु प्रमाणपत्र तक जहां जाति के आधार पर बनता है, वहाँ कार पर न लिखने से क्या हो जाएगा?