किसान आंदोलन कर रहे प्रदर्शनकारियों ने की उमर खालिद, शरजील ईमाम को रिहा करने की मांग!

कृषि कानून के विरोध में पिछले लगभग 15 दिनों से किसानों का आंदोलन जारी है, इस दौरान भारतीय किसान यूनियन एकता (उगराहां) द्वारा किया गया एक कार्यक्रम विवादों में आ गया है, जी हाँ! इस कार्यक्रम के जरिये उमर खालिद, शरजील इमाम, गौतम नवलखा, सुधा भारद्वाज, वरवरा राव और आनंद तेलतुंबडे समेत कई लोगों की रिहाई की मांग की गई, ये कार्यक्रम टिकरी बॉर्डर से कुछ किलोमीटर की दूरी पर हो रहा था.

पोस्टर-बैनर के जरिये भारतीय किसान यूनियन एकता (उगराहां) ने मांग की है कि गिरफ्तार बुद्धिजीवियों और छात्रों को रिहा किया जाए. उल्लेखनीय है कि इनमें से कई लोगों पर संगीन मामलो के तहत केस दर्ज हैं. कुछ तो ऐसे हैं जिन पर UAPA के तहत केस दर्ज है. जिसमें उमर खालिद और शरजील इमाम जैसे लोग शामिल हैं।

वहीं, इस मामले में भारतीय किसान यूनियन एकता (उगराहां) के लोगों का कहना था कि आज मानवाधिकार दिवस के दिन हम इन लोगों कि रिहाई की मांग कर रहे थे, मिली जानकारी के मुताबिक़, भारतीय किसान यूनियन एकता (उगराहां) का स्टेज टिकरी बॉर्डर से कुछ किमी की दूरी पर है. जबसे किसान आंदोलन शुरू हुआ है तबसे किसान आंदोलन के पीछे छिपी मंशा पर सवाल उठ रहे हैं.