7000 की टिकट लेकर हवाई जहाज से दिल्ली पहुंचे तमिलनाडु के कई दर्जन किसान, आंदोलन में होंगे शामिल

कृषि कानून के विरोध में पंजाब, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और हरियाणा के कुछ किसान संगठन आंदोलन कर रहे हैं, आंदोलनरत किसान पिछले 18 दिनों से दिल्ली की सीमा पर जमे हुए हैं, किसानों की एक ही मांग है कि तीनों कृषि कानून किसान विरोधी हैं, तत्काल प्रभाव से इन्हें रद्द किया जाय. हालांकि कृषि कानून रद्द होगा सरकार की ओर से अभी ऐसे कोई संकेत नहीं मिले हैं, किसानों ने भी कानून रद्द न होने तक आंदोलन करने का ऐलान कर दिया है.

आंदोलनरत किसानों को अब देश के कोने-कोने से समर्थन मिलना शुरू हो चुका है, किसान आंदोलन में शामिल होने के लिए तमिलनडु के कई दर्जन किसान हवाई जहाज से दिल्ली पहुंचे।

तमिलनाडु से दिल्ली पहुंचे किसानों का कहना है कि सरकार ट्रेन की टिकट नहीं दे रही थी तो हम 35 लोग हवाई जहाज से 7 हजार रूपये का टिकट लेकर आये हैं, उनका कहना है कि अभी और किसान आने के लिए तैयार हैं. तमिलनाडु से आये लोगों का कहना है कि इससे पहले चेन्नई से दिल्ली आने के लिए 3500 का टिकट लगता था लेकिन अब 7 हजार हो गया है. उन्होंने कहा कि सरकार टिकट का पैसा बढ़ाकर सोंच रही है कि मद्रासी लोग वहां नहीं जा पाएंगे। लेकिन ये मद्रासी हर उस जगह पहुंचेंगे जहाँ किसानों का आंदोलन होगा।

गौरतलब है कि कृषि कानून के विरोध में पिछले 18 दिनों से दिल्ली में किसानों का आंदोलन जारी है, किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच अबतक पांच दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन अबतक कोई हल नहीं निकल सका है, किसानों ने 14 दिसंबर को फिर से बड़ा प्रदर्शन करने का ऐलान किया है, जैसे-जैसे आंदोलन आगे बढ़ रहा है, वैसे-वैसे इसमें शामिल होने वालों की तादाद भी बढ़ रही है. कृषि कानूनों के बारें में लोगों को समझाने के लिए भाजपा पूरे देशभर में लगभग 700 प्रेस-कॉन्फ्रेंस करेगी।