CEO की गिरफ्तारी के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट पहुंचा रिपब्लिक, कल मुंबई पुलिस ने किया था गिरफ्तार

फेक टीआरपी केस में मुंबई पुलिस ने रविवार ( 13 दिसंबर, 2020 ) को सुबह-सुबह रिपब्लिक टीवी के CEO विकास खानचंदानी को गिरफ्तार कर लिया, CEO की गिरफ़्तारी के खिलाफ रिपब्लिक टीवी ने बॉम्बे हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है, रिपब्लिक ने याचिका दायर कर गिरफ़्तारी को अवैध बताया है, हालाँकि इसपर सुनवाई कब होगी, इसकी जानकारी अभी नहीं मिल पाई है.

बता दें कि रिपब्लिक टीवी के सीईओ विकास खानचंदानी को गिरफ्तार करने के बाद मुंबई पुलिस ने उन्हें किला कोर्ट में पेश किया, कोर्ट ने CEO को दो दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया, विकास इस समय मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच की कस्टडी में हैं.

रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ और वरिष्ठ पत्रकार अर्णब गोस्वामी का कहना है कि मुंबई पुलिस ने गैरकानूनी तरीके अपनाये हैं. इसके अलावा उन्होंने कहा कि इससे पहले 100 घंटे पूछताछ हो चुकी है लेकिन इसके बावजूद गिरफ्तारी हो गई. रिपब्लिक का कहना है कि पुलिस जब CEO विकास खानचंदानी को गिरफ्तार करने गई थी तो उसके पास कागजात भी नही थे.

गौरतलब है कि इससे पहले मुंबई पुलिस ने बार्बरतापूर्वक तरीके से रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ अर्णब गोस्वामी को गिरफ्तार कर लिया था, अरनब आठ दिन तलोजा जेल में रहे थे, उसके बाद सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिलने के बाद बाद बाहर आये. अर्णब के बाद मुंबई पुलिस ने रिपब्लिक टीवी के AVP घनश्याम सिंह को गिरफ्तार किया था. घनश्याम भी तलोजा जेल में बंद थे, 23 बाद जमानत मिली और जेल से बाहर आये. अब मुंबई पुलिस ने CEO विकास खानचंदानी को गिरफ्तार कर लिया है.

सीईओ की गिरफ़्तारी के बाद अर्णब गोस्वामी ने लोगों से अपील की है कि मुंबई पुलिस की इस गैरकानूनी कार्यवाही के खिलाफ लोग सोशल मीडिया पर आवाज उठायें। उन्होंने कहा कि जैसे पहले रिपब्लिक की जीत हुई थी वैसे फिर रिपब्लिक की जीत होगी।

मालूम हो कि जबसे रिपब्लिक ने पालघर में साधुओं की हत्या और सुशांत मामलें को उठाया है तभी से महाराष्ट्र सरकार और रिपब्लिक टीवी के बीच तनातनी चल रही है।