किसान आंदोलन: राकेश टिकैत ने भरी हुंकार, ‘हल क्रांति’ की दी चेतावनी

कृषि कानून के विरोध में पिछले 24 दिनों से किसान दिल्ली बॉर्डर पर जमे हुए हैं, केंद्र की मोदी सरकार का कहना है कि वह बातचीत के लिए तैयार है, लेकिन किसानों की मांग है कि कृषि कानूनों को रद्द किया जाए तभी वार्ता संभव है. भारत किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार को चेताया है और हल क्रांति करने की धमकी दी है।

यूपी गेट पर किसानों को संबोधित करते हुए राकेश टिकैत ने कहा कि तीन नए कृषि कानून को लेकर अगर सरकार हल नहीं निकाल पाती है तो किसान खुद हल क्रांति करेंगे। आपको बता दें कि किसान आंदोलन का आज 24वां दिन है, अबतक केंद्र सरकार और किसानों के बीच छह बार बातचीत हो चुकी है लेकिन अभी तक कोई हल नहीं निकल सका है, दिन-प्रतिदिन किसानों का आंदोलन तेज होता जा रहा है.

वहीँ भारतीय जनता पार्टी भी अब कृषि कानून के फायदे समझाने के लिए कार्यक्रम करने लगी है, इसी के तहत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कल मध्यप्रदेश में किसान महासम्मेलन को सम्बोधित किया, इस दौरान उन्होंने किसानों को भरोसा दिलाया कि कृषि कानून किसानों के हित में है, ये सरकार किसान हितैषी सरकार है।