अगर किसान आंदोलन में ‘राष्ट्र-विरोधी तत्व’ घूम रहे हैं, तो पुलिस उन्हें सलाखों के पीछे डालें: राकेश टिकैत

कृषि कानून के विरुद्ध दिल्ली में पिछले 16 दिनों से किसान आंदोलन कर रहे हैं, आंदोलन के दौरान देखा गया कि खालिस्तानी झंडे लहराए गए, कुछ दिनों बाद इससे दो कदम आगे बढ़ते हुए एक किसान संगठन ने पोस्टर बैनर के जरिये देशद्रोह की धारा के तहत जेल में बंद उमर खालिद और शरजील इमाम को रिहा करने की मांग करने लगे।

किसान आंदोलन में ऐसे दृश्य दिखने के बाद लोग इस आंदोलन को लेकर तरह-तरह की बातें करने लगे, यहाँ तक कि केंद्रीय कृषि मंत्री ने भी इस मुद्दे को उठाया, अब किसान नेता राकेश सिंह टिकैत का इस मामलें पर बयान सामने आया है।

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि अगर हमारे बीच ( किसान आंदोलन ) में राष्ट्र-विरोधी तत्व’ घूम रहे हैं, तो पुलिस उन्हें सलाखों के पीछे डालें। राकेश टिकैत से आज जब यह पूछा गया कि क्या ‘राष्ट्र-विरोधी तत्व’ आंदोलन में शामिल हो गए हैं? तो उन्होंने कहा कि अगर किसी प्रतिबंधित संगठन के लोग हमारे बीच घूम रहे हैं, तो उन्हें सलाखों के पीछे डाल दें। पुलिस और खुफिया एजेंसियों को उन्हें पकड़ना चाहिए। हमें ऐसा कोई व्यक्ति यहां नहीं मिला, अगर हम ऐसा कोई मिला तो हम उन्हें वापस भेज देंगे। कृषि कानूनों के खिलाफ गाज़ीपुर बॉर्डर पर किसान डटे हुए हैं।