किसान आंदोलन: सिख संत राम सिंह ने की आत्महत्या, राहुल गाँधी बोले- क्रूरता की हद पार कर चुकी है मोदी सरकार

कृषि कानून के विरोध में पिछले 21 दिनों से चल रहे किसान आंदोलन से एक दुःखद खबर सामने आई है, किसानों के आंदोलन के दौरान बुधवार को संत बाबा राम सिंह ने आत्महत्या कर ली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट करके सिख बाबा को श्रद्धांजलि दी है, साथ ही उन्होंने कहा है की मोदी सरकार की क्रूरता हर हद पार कर चुकी है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में लिखा, करनाल के संत बाबा राम सिंह जी ने कुंडली बॉर्डर पर किसानों की दुर्दशा देखकर आत्महत्या कर ली। इस दुख की घड़ी में मेरी संवेदनाएँ और श्रद्धांजलि। कई किसान अपने जीवन की आहुति दे चुके हैं। मोदी सरकार की क्रूरता हर हद पार कर चुकी है।
ज़िद छोड़ो और तुरंत कृषि विरोधी क़ानून वापस लो!

कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने भी ट्वीट कर बाबा संत राम को श्रद्धांजलि दी है, हे राम, यह कैसा समय ! ये कौन सा युग !! जहाँ संत भी व्यथित हैं। संत राम सिंह जी सिंगड़े वाले ने किसानों की व्यथा देखकर अपने प्राणों की आहुति दे दी। ये दिल झंकझोर देने वाली घटना है।प्रभु उनकी आत्मा को शांति दे। उनकी मृत्यु, मोदी सरकार की क्रूरता का परिणाम है।

बताया जा रहा है कि दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर (सिंघु बार्डर) पर धरने में शामिल संत बाबा राम सिंह ने बुधवार को खुद को गोली मार ली। गोली लगने से उनकी मौत हो गई है। घायल अवस्था में उन्हें एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया, जहां पर चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। बाबा राम सिंह करनाल के रहने वाले थे। उनका एक सुइसाइड नोट भी सामने आया है.

अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने ट्वीट कर लिखा, संत राम सिंह जी सिंगड़े वाले ने किसानों की व्यथा को देखते हुए आत्महत्या कर ली। इस आंदोलन ने पूरे देश की आत्मा झकझोर कर रख दी है। मेरी वाहेगुरु से अरदास है कि उनकी आत्मा को शांति मिले। आप सभी से संयम बनाकर रखने की विनती।