16 dec तक सड़क खाली नहीं हुई तो 17 को खुद सड़क खाली करवाउंगी, रागिनी तिवारी ने दी चेतावनी!

कृषि कानून के विरोध में पंजाब, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और हरियाणा के कुछ किसान संगठन पिछले आंदोलन कर रहे हैं, आंदोलनरत किसान पिछले 18 दिनों से दिल्ली की सीमा पर जमे हुए हैं, आंदोलनकारी किसानों ने दिल्ली के लगभग सभी प्रमुख एंट्री पॉइंट को बंद कर रखा है, सड़कें जाम होनें से लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. सोशल मीडिया रागिनी तिवारी नाम की एक हिंदूवादी नेता का वीडियो का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें वो कह रही हैं कि “16 दिसंबर तक सड़क खाली नहीं हुई तो, 17 दिसंबर को खुद अपने समर्थकों के साथ सड़क खाली करवाउंगी।

सोशल मीडिया में वायरल वीडियो में रागिनी तिवारी सरकार और पुलिस को चेतावनी देते हुए कह रही हैं कि किसान आंदोलन की आड़ में शरजील इमाम, उमर खालिद जैसे गद्दारों की रिहाई की साजिश चल रही है, गद्दारों का साथ दिया जा रहा है. रागिनी ने कहा कि हम ऐसी साजिश को नहीं देख सकते।

रागिनी तिवारी ने कहा कि कोरोना का हवाला देकर छठ पूजा रोक दी गई, तो क्या किसान आंदोलन में कोरोना नहीं हो रहा है, रागिनी ने कहा कि मैं गांधी की बंदर महिला नहीं हूँ, 16 दिसंबर तक अगर सरकार किसान आंदोलन को हटाती/निपटती नहीं है तो 17 दिसंबर को फिर जाफराबाद बनेगा, रागिनी तिवारी अपने समर्थकों संग रोड खाली करवाएगी। और आंदोलन बंद करवाएगी। देखें वीडियो!

आपको बता दें कि रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से आंदोलनकारी किसानों ने मीटिंग की उसके बाद चिल्ला बॉर्डर को खोल दिया गया है, माना जा रहा है कि रक्षामंत्री के आश्वाशन से किसान सहमत हैं तभी सड़क खाली कर दिए. राजनितिक जानकारों का कहना है कि किसान आंदोलन से एक बड़ा धड़ा अलग होने की कगार पर है, राजनीतिक फायदे के लिए इस्तेमाल होने से इनकार किया कर दिया है.

गौरतलब है कि कृषि कानून के विरोध में पिछले 18 दिनों से दिल्ली में किसानों का आंदोलन जारी है, किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच अबतक पांच दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन अबतक कोई हल नहीं निकल सका है, प्रदर्शनकारी अब तो आंदोलन की आड़ में शरजील ईमाम, उमर खालिद जैसे गद्दारों की मांग भी करने लगे हैं.