हाथरस केस: CBI ने दाखिल की चार्जशीट, प्रियंका वाड्रा बोलीं- सत्य की जीत हुई, सत्यमेव जयते

उत्तर प्रदेश के हाथरस के बूलगढ़ी गाँव में कथित तौर पर दलित युवकी के साथ गैंगरेप और ह्त्या मामलें की जांच कर रही सीबीआई ने चार्जशीट दाखिल कर दी है, सीबीआई ने शुक्रवार को हाथरस में एक अदालत के सामने चार्जशीट दाखिल की. चार्जशीट के मुताबिक़, गैंगरेप के बाद पीड़िता की ह्त्या की गई थी, सीबीआई द्वारा चार्जशीट दाखिल करने के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा की प्रतिक्रिया आई है, प्रियंका ने ट्वीट कर कहा है कि सत्य की जीत हुई, सत्यमेव जयते।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चार्जशीट में सीबीआई ने आरोपियों के खिलाफ गैंगरेप-हत्या की धाराओं के अलावा एससी/एसटी ऐक्ट की धाराएं भी लगाई गई हैं। पीड़िता के आखिरी बयान को आधार बनाकर सीबीआई ने चार्जशीट दाखिल की। आरोपियों के वकील ने बताया कि CBI ने चारों आरोपियों संदीप, लवकुश, रवि और रामू पर रेप और हत्या का आरोप लगाया गया है. साथ में एससी/एसटी ऐक्ट की धाराएं भी लगाई गई हैं।

योगी सरकार निशाना साधते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट कर कहा कि एक तरफ सरकार सरंक्षित अन्याय था। दूसरी तरफ परिवार की न्याय की आस थी। पीड़िता का शव जबरदस्ती जला दिया गया। पीड़िता को बदनाम करने की कोशिशें हुईं। परिवार को धमकाया गया। लेकिन अंततः सत्य की जीत हुई। सत्यमेव जयते।

गौरतलब है कि हाथरस में 14 सितंबर 2020 को 20 वर्षीय दलित युवती से कथित तौर पर रेप का मामले सामने आया था. तथाकथित उच्च जाति के चार युवकों पर लड़की के साथ दुष्कर्म का आरोप लगा था. दिल्ली में इलाज के दौरान पीड़िता की कुछ दिन बाद मौत हो गई. 30 सितंबर को भारी पुलिस बल की मौजूदगी में देर रात उसका अंतिम संस्कार हाथरस में कर दिया गया.

इस मामले में यूपी पुलिस के अलावा एसटीएफ ने भी जांच की। बाद में योगी सरकार ने ये केस सीबीआई को सौंप दिया था। सीबीआई इस मामले में आरोपियों संदीप, लवकुश, रामू और रवि की भूमिका की जांच में लगी है। फिलहाल, चारों आरोपी न्यायिक हिरासत में हैं। गैंगरेप और हत्या मामले में अलीगढ़ जेल में बंद चारों आरोपियों का पॉलीग्राफ टेस्ट भी हुआ था.