विजय दिवस: वॉर मेमोरियल पर पीएम मोदी ने जलाए ‘स्वर्णिम विजय मशाल’ भारतीय जांबाजों को किया सैल्यूट

भारत और पाकिस्तान के बीच सन 1971 में हुए युद्ध को आज 50 साल पूरे हो गए, इस युद्ध में भारत ने पाकिस्तान को महज 13 दिनों में धूल चटाकर पाकिस्तान के दो टुकड़े कर दिए. 1971 में बांग्लादेश अस्तित्व में आया.

1971 में बांग्लादेश को पाकिस्तान से आज़ाद कराने में भारत की विजय को चिह्नित करने के लिए हर साल 16 दिसंबर को विजय दिवस मनाया जाता है। आज इस मौके पर पीएम मोदी ने राष्ट्रीय युद्ध स्मारक जाकर 1971 युद्ध के नायकों को श्रद्धांजलि दी और फिर ‘स्वर्णिम विजय मशाल’ जलाया।

नई दिल्ली स्थित राष्ट्रीय समर स्मारक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत, और तीनों सेनाओं के चीफ मौजूद रहे।

नेशनल वॉर मेमोरियल पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सैनिकों को श्रद्धांजलि देने के बाद 4 स्वर्णिम विजय मशाल प्रज्जवलित किए। इन मशालों को देश के अलग अलग कोनों में ले जाया जाएगा।

आपको बता दें कि दिसंबर 1971 में भारतीय सशस्त्र बलों ने पाकिस्तानी सेना पर एक निर्णायक और ऐतिहासिक जीत हासिल की थी, जिसके परिणामस्वरूप एक राष्ट्र बांग्लादेश का निर्माण हुआ और दूसरे विश्व युद्ध के बाद सबसे बड़ा सैन्य आत्मसमर्पण भी हुआ। पाकिस्तान के 95 हजार सैनिकों ने भारत के सामने आत्म्सपर्पण कर दिया था।