ममता ने मांगी शरद पवार की मदद तो नरोत्तम मिश्रा बोले- फुके बल्ब की झालर रोशनी नहीं कर सकते

पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी का मुकाबला करने के लिए अब सीएम ममता बनर्जी सम्पूर्ण विपक्ष को एकजुट करने की कवायद में जुट गई हैं, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक़, ममता बनर्जी जनवरी में एक ‘एंटी भाजपा रैली’ कर सकती हैं, इसमें शरद पवार, अरविन्द केजरीवाल और एमके स्टॉलिन के पहुँचने की संभावना है, क्योंकि ममता ने इन्हें आमंत्रित किया है.

ममता बनर्जी द्वारा शरद पवार व् अन्य विपक्षी नेताओं को आमंत्रित किये जाने को लेकर मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा कि फुके बल्ब की झालर रोशनी नहीं कर सकते। भाजपा के दिग्गज नेता और मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि ये फुके बल्ब की झालर है, ये रोशनी नहीं कर सकते। पश्चिम बंगाल में वे पहले भी आ चुके हैं। इनसे पश्चिम बंगाल का भला नहीं होगा। बंगाल का भला काम से होगा जो वो करती नहीं हैं.

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक़, ममता बनर्जी ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार समेतविपक्षी पार्टियों को आमंत्रित किया है, इससे पहले शरद पवार ने आज ममता बनर्जी को फोन करके वर्तमान राजनीति पर चर्चा की…

राजनितिक जानकारों का कहना है कि पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव ममता बनाम मोदी है, इसलिए ममता बनर्जी पूरे विपक्ष को एकजुट करने की कवायद में लगी हुई हैं, खैर 2019 लोकसभा चुनाव में भी विपक्ष एकजुट हुआ था लेकिन प्रचंड बहुमत से केंद्र में भाजपा की सरकार बनी थी.

गौरतलब है कि ममता बनर्जी के सबसे भरोसेमंद रहे सुवेंदु अधिकारी अब भाजपा में शामिल हो गए हैं, सुवेंदु अकेले नहीं बल्कि 9 विधायकों के साथ भाजपा में शामिल हुए, इस झटके से ममता बनर्जी उबर भी नहीं पाई थी कि अमित शाह ने बंगाल में रोड शो किया और जनसैलाब उमड़ पड़ा. इसे ममता बनर्जी को काफी कम समय में डबल झटका लगा है. हालाँकि टीएमसी ने भी भाजपा में सेंध लगा दी, भाजपा सांसद सौमित्र खान की पत्नी सुजाता टीएमसी में शामिल हो गई.