1 रूपये प्रति किलो गोभी बेंचकर किसान थे परेशान, मोदी सरकार ने दूसरे दिन 10 रूपये/किलो में बिकवाया

हाल ही में उत्तर प्रदेश के शामली का एक वीडियो वायरल हुआ था, मंडी में एक रूपये किलो गोभी बिकने से नाराज किसान ने गोभी की फसल पर ट्रैक्टर चलाकर नष्ट कर दी है, इस बात की जानकारी जैसे ही मोदी सरकार को मिली तो केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कॉमन सर्विस सेण्टर की उत्तर प्रदेश की टीम को मौके पर भेजा और किसानों से सम्पर्क किया और 10 रूपये किलो में गोभी की खरीद करवाई, इसकी जानकारी खुद केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट करके दी है.

केंद्रीय मंत्री ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई को धन्यवाद देते हुए कहा कि धन्यवाद ANINewsUP कि आपने शामली जिले के मायापुरी गांव के गोभी किसानों को स्थानीय मंडी में मिल रहे एक रूपये प्रति किलो के भाव से हो रहे शोषण के बारे में बताया। मेरे निर्देश पर कॉमन सर्विस सेण्टर की उत्तर प्रदेश की टीम ने आज वहां के किसानों से संपर्क किया।

मुझे बताया गया की जिस किसान रमेश का जिक्र @ANINewsUP ने किया था उसने मंडी में मिल रहे मूल्य से दुखी हो कर अपनी पूरी गोभी की फसल पर ट्रैक्टर चला कर नष्ट कर दिया और उसके पास अब बेचने के लिए कोई फसल नहीं है। इन्हें भविष्य में डिजिटल तरीके से फसल बेचने की जानकारी दी गई है।

रविशंकर ने अपने ट्वीट में लिखा, मंडियों के इसी शोषण से किसानों को मुक्ति दिलाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने नए कृषि कानून बनाये हैं। मैंने कॉमन सर्विस सेण्टर की की टीम को कहा कि मायापुरी गांव के अन्य किसानों से भी संपर्क कर उन्हें डिजिटल तरीके से अपनी फसल देश के किसी भी खरीददार को बेचने की सुविधा की जानकारी दी जाये।

इसकी जानकारी प्राप्त करते ही मायापुरी गांव के कई किसान जो मंडी के शोषण से परेशान थे अपनी फसल को बेहतर मूल्य पर बेचने के लिए आगे आये। आज 400किलो गोभी की पहली खेप किसान तनवीर ने दिल्ली के खरीददार को कॉमन सर्विस सेण्टर के डिजिटल प्लेटफॉर्म के द्वारा Rs. 10/Kg के भाव पर बेच दी।

किसान को ट्रांसपोर्ट की सुविधा उसके खेत पर ही उपलब्ध हो गई जिसका खर्च भी खरीददार ने वहन किया। किसान के खाते में पूरा पेमेंट हो गया है। आज शाम शामली की गोभी दिल्ली के लिए रवाना हो गई है।आने वाले दिनों में अन्य किसानों की गोभी की फसल भी देश के खरीददार खरीदने को तैयार हैं।