फंस गई कांग्रेस समर्थित सोरेन सरकार, लालू को बंगले में शिफ्ट करने पर हाईकोर्ट ने पूछा बड़ा सवाल!

भ्रस्टाचार के आरोप में जेल की हवा खा रहे राष्ट्रीय जनता दल ( आरजेडी ) मुखिया लालू प्रसाद यादव सिर्फ नाम के जेल में बंद हैं, बाकि वो पूरे ऐशो-आराम के साथ जीवन व्यतीत कर रहे हैं. लालू यादव इस समय रिम्स निदेशक के बंगले में रह रहे हैं। झारखंड में जबसे कांग्रेस समर्थित हेमंत सोरेन की सरकार बनी तबसे लालू को वीआईपी सुविधाएं मिलना शुरू हो गई, सरकार में लालू की पार्टी आरजेडी भी शामिल है।

जेल में ही लालू यादव को फोन भी मुहैया करवाया गया था, इसका खुलासा तब हुआ,जब लालू प्रसाद यादव ने जेल से ही भाजपा विधायक को फोन करके लालच देने की कोशिश की. हालाँकि लालू यादव अपने मकसद में कामयाब नहीं हुए, उनकी पोल खुल गई।

आरजेडी मुखिया लालू प्रसाद यादव को रिम्स के वार्ड से निदेशक बंगला और बंगला से वापस पेइंग वार्ड शिफ्ट करने पर झारखंड हाईकोर्ट ने सरकार से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। जस्टिस अपरेश कुमार सिंह की अदालत ने सरकार को यह बताने को कहा है कि लालू प्रसाद को पेइंग वार्ड से निदेशक बंगले में शिफ्ट करने का निर्णय किसका था। फिर बंगले से पेइंग वार्ड में उन्हें किसके आदेश से शिफ्ट किया गया।

अदालत ने लालू प्रसाद को मिलने वाले सेवादार की नियुक्ति प्रक्रिया पर भी जानकारी मांगी है और यह बताने को कहा है कि सेवादार नियुक्त करने के लिए क्या प्रावधान है और कैसे उसका चयन किया जाता है। सरकार को 18 दिसंबर तक पूरी रिपोर्ट अदालत में पेश करने का निर्देश कोर्ट ने दिया है। अगर सरकार ने कोर्ट को संतोषजनक रिपोर्ट नहीं दिया तो कार्यवाही भी हो सकती है।

loading...