प्रियंका वाड्रा, हार्दिक पटेल ने रेलवे को लेकर फैलाई फेक न्यूज़, PIB ने सबको किया एक्सपोज

पिछले दिनों सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था जिसमें भारतीय रेलवे की एक ट्रेन में अडानी कम्पनी का पम्पलेट छपा हुआ था, इस वीडियो को कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल ने किसान आंदोलन से जोड़ते शेयर किया और भ्रामक दावे किये। हार्दिक पटेल द्वारा शेयर किये गए वीडियो को फैलानें में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई प्रियंका वाड्रा ने।

प्रियंका वाड्रा ने हार्दिक पटेल के वीडियो को रीट्वीट कर दिया, इसके बाद काँग्रेसी सक्रिय हो गए और भ्रामक दावे के साथ वीडियो को शेयर करने लगे. अब सरकारी फैक्ट चेक संस्था संस्था PIB फैक्ट चेक ने इन सबके झूठ का पर्दाफाश किया है.

PIB फैक्ट चेक ने स्पष्ट किया है कि भारतीय रेलवे पर केवल एक कम्पनी का विज्ञापन लगा हुआ है, जिसका उद्देश्य केवल ‘गैर किराया राजस्व’ को बेहतर बनाना है।

PIB ने वायरल वीडियो को शेयर करते हुए अपने ट्वीट में लिखा, सोशल मीडिया पर एक वीडियो के साथ यह दावा किया जा रहा है कि सरकार ने भारतीय रेल पर एक निजी कंपनी का ठप्पा लगवा दिया है। जबकि यह दावा भ्रामक है। यह केवल एक वाणिज्यिक विज्ञापन है जिसका उद्देश्य केवल ‘गैर किराया राजस्व’ को बेहतर बनाना है।

गौरतलब है कि कांग्रेस पार्टी लगातार आरोपी लगाती रहती है कि मोदी सरकार पूंजीपतियों को फायदा पहुंचा रही है, अपनी बात को मजबूत करने के लिए कांग्रेस फर्जी वीडियोज का सहारा लेने से भी नहीं गुरेज करती। कांग्रेस का कहना है कि मोदी सरकार ने अम्बानी-अडाणी के दबाव में कृषि बिल लाया है. किसानों को इससे कोई फायदा नहीं होगा। वहीँ मोदी सरकार का कहना है कि कृषि कानून किसानों के लिए फायदेमंद है.

मालूम हो कि पिछले 21 दिनों से कृषि कानून के विरोध में पंजाब, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और हरियाणा के कुछ किसान संगठन दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे हैं, सरकार और किसान संगठनों के बीच पांच दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन कोई हल नहीं निकल सका है।