किसान-सरकार वार्ता: मंत्री जी ने कहा कुछ ऐसा…किसानों ने किया पलटवार गूंज उठे ठहाके

कृषि कानून के खिलाफ चल रहे आंदोलन को को ख़त्म करवाने के लिए केंद्र सरकार ने मंगलवार ( 2020 ) को दिल्ली के विज्ञान भवन में किसानों के साथ बातचीत की, हालाँकि किसान सरकार की बात से सहमत नहीं हुए और आंदोलन जारी रखने का फैसला किया। हालाँकि मीटिंग के दौरान एक वक्त ऐसा आया कि पूरा मीटिंग हाल ठहाकों से गूंज उठा.

दरअसल काफी देर तक वार्ता चलने के बाद सरकार और किसान नेताओं की बैठक में 10 मिनट का टी ब्रेक हुआ, इसी दौरान केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि चलिए चाय पी ली जाए, एक किसान नेता ने कहा आप चाय क्या पिलाएँगे, हमारे लंगर में चलिए जलेबी छान कर खिलाएँगे और इसके बाद ठहाके गूँज उठे!

सरकार ने किसान नेताओं को कमिटी बनाने का प्रस्ताव दिया है, जो मौजूदा कानून की समीक्षा करेगी। अब किसान नेताओं को इस पर फैसला करना है। नए कृषि कानून पर चर्चा के लिए सरकार ने प्रस्ताव रखा है कि किसान नेता अपने-अपने संगठनों से 4-5 लोगों के नाम दें और एक समिति बनाएं जिसमें सरकार के प्रतिनिधि और कृषि विशेषज्ञ शामिल होंगे और वे मिलकर मंथन करेंगे। हालाँकि किसानों ने इसपर अभी कोई प्रतिक्रया नहीं दी है, बस आंदोलन जारी रखने का ऐलान किया है।