घर से दूर हैं गरीब किसान, इसलिए पैर दबाने के लिए ले आये हैं मशीन

कृषि कानून के विरोध में पंजाब, पश्चिमी यूपी और हरियाणा के कुछ किसान दिल्ली या दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन कर रहे हैं, ये आंदोलन लगभग 15 दिनों से जारी है, किसान लक्ष्य बना लिए हैं कि जबतक कानून रद्द नहीं हो जाता है, आंदोलन जारी रहेगा, खानी-पीने की कोई दिक्कत न हो इसके लिए 4-6 महीनें का राशन भी लेकर निकले हैं। अब सोशल मीडिया पर पैर मालिश करने की मशीन की कुछ तस्वीरें वायरल हो रही हैं।

इन तस्वीरों को शेयर करके लोग सोशल मीडिया पर कह रहे हैं कि गरीब किसान घर से दूर हैं, उम्र भी ज्यादा हो गई है, ऐसे में पैर मालिस करने के लिए मशीन भी लगी है। हालाँकि ये मशीन किसान अपने साथ ले आए हैं या किसी ने हाल ताज में लगवाई है, इसकी पुख्ता जानकारी अभी नहीं मिल पाई है।

गौरतलब है कि कृषि कानून को लेकर आंदोलनरत किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच अबतक पांच दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन बेनतीजा रही है. केंद्र सरकार किसानों से कह रही है कि कानून में किसानों को जो आपत्ति हो बताएं उसमें संसोधन करने के लिए सरकार तैयार है, सरकार एमएसपी भी लिखित में देने को तैयार है. हालाँकि आंदोलनरत किसान कृषि कानून को रद्द करवाने की अपनी मांग को लेकर अड़े हुए हैं. केंद्र सरकार ने साफ़ कर दिया है कि कृषि कानून रद्द नहीं हो सकता है. संसोधन करना विकल्प है।