राजनीतिक अखाड़ा बना किसान आंदोलन: क्रेडिट लेने के लिए भिड़े केजरीवाल और कैप्टन अमरिंदर!

कृषि कानून के विरोध में 19 दिनों से हो रहा किसान आंदोलन अब राजनीतिक अखाड़ा बन गया है, राजनैतिक लोग अपने फायदे के लिए आंदोलन का इस्तेमाल कर रहे हैं, यही वजह है कि किसान आंदोलन की क्रेडिट को लेकर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल और अकाली दल आपस में भिड़ गए हैं। हर कोई एक दूसरे पर राजनैतिक बाण चलाने से बाज नहीं आ रहा है।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने रविवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर किसानों के चल रहे आंदोलन का राजनीतिक दोहन करने का आरोप लगाया है और कहा है कि वो अपनी पार्टी के चुनावी एजेंडे को बढ़ाने के लिए ‘झूठ और झूठे प्रचार’ का सहारा ले रहे हैं। कैप्टन ने कहा कि दिल्ली में केजरीवाल सरकार के ठीक उलट, जो कॉरपोरेट घरानों के टुकड़ों पर पनप रही है।

अमरिंदर सिंह ने कहा, यह वास्तव में केजरीवाल सरकार थी जो बेशर्मी से 23 नवंबर को काले कृषि कानूनों को अधिसूचित कर रही थी, ऐसे समय में जब किसान कृषि कानूनों का विरोध करने के लिए दिल्ली तक मार्च करने की तैयारी कर रहे थे। उन्होंने कहा, और अब वे यह घोषणा करके नाटक कर रहे हैं.

अमरिंदर के आरोपों पर पलटवार करते हुए केजरीवाल ने कहा कि कैप्टन जी, मैं शुरू से किसानों के साथ खड़ा हूँ। दिल्ली के स्टेडीयम जेल नहीं बनने दी, केंद्र से लड़ा। मैं किसानों का सेवादार बनके उनकी सेवा कर रहा हूँ आपने तो अपने बेटे के ED केस माफ़ करवाने के लिए केंद्र से सेटिंग कर ली, किसानों का आंदोलन बेच दिया? क्यों?