किसान आंदोलन में घुसे वामपंथी, दिल्ली-जयपुर हाईवे को किया जाम, लोगों को हो रही दिक्कतें!

केंद्र सरकार द्वारा बनाये गए कृषि कानून के विरोध में पंजाब के किसान पिछले लगभग एक हफ्ते से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं, कुछ किसान दिल्ली में प्रवेश कर गए हैं तो कुछ किसान दिल्ली बॉर्डर पर जमे हुए हैं. किसान आंदोलन पर अब राजनीति तेज हो रही है, इन सब के बीच अब किसान आंदोलन में अब वामपंथी भी घुस गए हैं.

राजस्थान के जयपुर में कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया ( सीपीआई ) कार्यकर्ताओं ने किसान आंदोलन के समर्थन में विरोध प्रदर्शन करते हुए दिल्ली-जयपुर हाईवे को जाम कर दिया। न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक, एक प्रदर्शनकारी ने बताया, “सरकार को ये काले कानून वापिस लेने पड़ेंगे। अगर आज की वार्ता सफल नहीं होती है तो ये आंदोलन और तेज़ होगा। वामपंथियों द्वारा दिल्ली-जयपुर हाईवे जाम किये जाने से आम लोगों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

आपको बता दें कि कृषि कानून को लेकर केंद्र सरकार किसानों के बीच कई राउंड की बातचीत हुई लेकिन कोई हल नहीं निकला। दिल्ली के विज्ञान भवन में आज फिर किसानों और केंद्र सरकार के बीच बातचीत चल रही है. विज्ञान भवन में 42 किसान संगठनों के नेता मौजूद हैं. जबकि केंद्र सरकार की तरफ से तीन केंद्रीय मंत्री मौजूद हैं, जिसमें केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, पीयूष गोयल और सोम प्रकाश। अब देखना यह है कि इस बातचीत का क्या नतीजा निकलता है.

इससे पहले कृषि कानून को लेकर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह से मुलाक़ात करने के लिए दिल्ली पहुंचे। अमित शाह से मुलाक़ात करने के बाद कैप्टन ने कहा कि किसानों को आगे आकर बातचीत करनी चाहिए और आंदोलन ख़त्म करना चाहिए, उन्होंने कहा कि आंदोलन की वजह से पंजाब की अर्थव्यवस्था पर फर्क पड़ रहा है. अब देखना यह दिलचस्प होगा कि किसान बातचीत से सहमत होकर आंदोलन ख़त्म कर देते हैं या आगे जारी रखते हैं.