कॉंग्रेसियो ने सड़क पर उतरकर आंदोलन कर रहे किसानों का बिगाड़ दिया काम

कृषि कानून के विरोध में पहले किसानों ने सड़क पर उतरकर विरोध प्रदर्शन शुरू किया। इसके बाद कॉंग्रेसियों ने भी किसानों के साथ सड़क पर उतरकर धरना प्रदर्शन किया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की, काँग्रेसियों की वजह से किसानों के आंदोलन में राजनीति का तड़का लगा।

अब भाजपा ने भी कांग्रेस पर बड़ा हमला बोला है, भाजपा का कहना है कि ये आंदोलन कांग्रेस की उपज है, कांग्रेस अपना अस्तित्व बचाने के लिए किसानों के साथ आ गई है, गौरतलब है कि कांग्रेस ने देशभर में किसानों के साथ धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया है।

केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर जोरदार हमला बोलते हुए कहा है कि किसान आंदोलन में कूदे विपक्षी दलों का दोहरा और शर्मनाक रवैया सामने आया है. प्रसाद ने कहा है कि ये दल अपना राजनीतिक वजूद बचाने के लिए आंदोलन के साथ आए हैं. विपक्ष दलों का काम सिर्फ मोदी सरकार का विरोध करना ही रह गया है.

इस दौरान केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘कांग्रेस ने खुद अपने 2019 के चुनावी घोषणा पत्र में कृषि से जुड़े APMC एक्ट को समाप्त करने की बात कही थी।

बता दें कि पिछले लगभग 11 दिनों से दिल्ली में कृषि कानून के विरोध में पंजाब के किसान आंदोलन कर रहे हैं, किसान संगठन के प्रतिनिधियों और सरकार के बीच 5 राउंड की बातचीत हो चुकी है लेकिन अभी तक कोई हल नहीं निकला है, अब छठे राउंड की बातचीत 9 दिसंबर को होगी, उससे पहले किसानों ने 8 दिसंबर, 2020 को भारत बंद बुलाया है, किसानों द्वारा बुलाये गए भारत बंद को कांग्रेस, सपा और आम आदमी पार्टी समेत कई पार्टियां समर्थन दे रही हैं।