राजस्थान: गजब की राजनीति, BTP प्रत्याशी को हराने के लिए कांग्रेस और BJP का हुआ गठबंधन

राजनीति में कब क्या हो जाय, ये कहना मुश्किल ही है, जी हाँ! कभी ऐसा समय आता है जब दो कटटर प्रतिद्वंदियों का भी गठबंधन बन जाता है, इसका सबसे ताजा उदाहरण राजस्थान से आया है, जी हाँ! भारतीय ट्राइबल पार्टी ( बीटीपी ) को हराने के लिए कांग्रेस ने भाजपा से हाथ मिला लिया। इसका अंदाजा शायद ही किसी को होगा।

राजस्थान के डूंगरपुर जिले में आयोजित जिला प्रमुख का चुनाव यादगार चुनाव रहा. डूंगरपुर जिला परिषद के जिला प्रमुख पद पर कांग्रेस के समर्थन से भाजपा ने अपना जिला प्रमुख बनाया। जिला प्रमुख पद पर निर्दलीय नामांकन भरकर चुनाव लड़ने वाली भाजपा की सूर्या अहारी ने कांग्रेस के समर्थन से बीटीपी (BTP) समर्थित पार्वती को एक वोट से हराकर जिला प्रमुख पद पर जीत हासिल की।

दरअसल जिला परिषद की 27 सीटों में से बीटीपी समर्थित 13 निर्दलीय जीतकर आये थे. वहीं, कांग्रेस के 6 और भाजपा के 8 उम्मीदवार जीते थे. इधर जिला परिषद सीटों में सर्वाधिक सीट बीटीपी समर्थित होने के चलते जिला प्रमुख चुनाव में बीटीपी को हराने के लिए पहली बार दो राष्ट्रिय दल भाजपा व कांग्रेस ने हाथ मिलाया और यही कारण रहा कि जिला प्रमुख चुनाव में कांग्रेस ने अपना उम्मीदवार नहीं उतारा।

वहीं, भाजपा ने अपनी उम्मीदवार सूर्या अहारी को निर्दलीय के रूप में नामांकन भराया। बीटीपी समर्थित पार्वती ने अपना नामांकन दाखिल किया. इसके बाद मतदान हुआ और मतगणना हुई. जिसमें भाजपा से निर्दलीय प्रमुख का चुनाव लड़ने वाली सूर्या अहारी को भाजपा के 8 व कांग्रेस के 6 मत सहित कुल 14 मत मिले जबकि बीटीपी समर्थित उम्मीदवार पार्वती को 13 मत मिले और एक वोट से सूर्या अहारी ने जीत दर्ज करते हुए जिला प्रमुख बनी। सूर्या अहारी की जीत से ज्यादा भाजपा और कांग्रेस के गठबंधन की चर्चा हो रही है। क्योंकि दोनों एक दूसरे की कट्टर राजनैतिक दुश्मन हैं।