चीन ने पार की सारी हदें, उइगर मुस्लिमों को जबरन खिला रहा है सुअर का मांस

चीन में उइगर मुसलमानों पर भीषण अत्याचार जारी है, ये अत्याचार दिन-प्रतदिन विकराल रूप धारण कर रहा है, चीन की शी जिनपिंग सरकार ने उइगरों का अस्तित्व समाप्त करनें के लिए पहले धड़ाधड़ मस्जिदों को ढहाना शुरू किया। अब प्रताड़ना शुरू कर चुकी है, जी हाँ! उइगर मुस्लिमों को चीन जबरन सूअर का मांस खिला रहा है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन के ‘री-एजुकेशन’ कैंपों में रह रहे उइगर मुसलमानों को हर शुक्रवार को सूअर का मांस खाने के लिए मजबूर किया जाता है। मुसलमानों के लिए शुक्रवार को एक पवित्र दिन माना जाता है। जिसे जुम्मा कहा जाता है, मुसलमानों को सूअर का मांस खिलाने का मतलब है उनके मजहब को भ्रष्ट करने की कोशिश। जानकार बताते हैं कि इस्लाम में सूअर खाना हराम है.

चीनी सरकार के इन अत्याचारों का शिकार रह चुकी सरागुल सौतबे ने एक इंटरव्यू में बताया कि चीन जानबूझकर जुमे के दिन सूअर का मांस खिलाता है, न खाने पर कठोर दंड भी मिलता है.

इससे पहले ऑस्ट्रेलियन स्ट्रैटिजिक पॉलिसी इंस्टीट्यूट ने सैटेलाइट इमेज और स्टैटिकल मॉडलिंग पर आधारित एक रिपोर्ट पब्लिश की थी, जिसके मुताबिक चीन में 8,500 मस्जिदों को पूरी तरह ढहा दिया गया है. अधिकतर नुकसान उरुमकी और काशगर के बाहरी इलाकों में पहुंचाया गया है. रिपोर्ट के अनुसार प्रांत में कई ऐसी मस्जिदें भी हैं जिनकी गुंबदों और मीनारों को क्षतिग्रस्त किया गया है.

अभी हाल ही में रेडिओ फ्री एशिया की एक रिपोर्ट में दावा किया गया था कि चीन ने मस्जिद तोड़कर सार्वजनिक शौचालय में तब्दील कर दिया। उइगर मुस्लिमों पर हो रहे अत्याचार को लेकर इस्लामिक मुल्क खामोश है. OIC भी नहीं सनक रहा है।