छत्तीसगढ़ महिला आयोग की अध्यक्ष का विवादित बयान, बलात्कार को लेकर महिलाओं पर ही लगाया लांक्षन!

रायपुर, 12 दिसंबर: छत्तीसगढ़ की महिला आयोग की अध्यक्ष किरणमयी नायक ने विवादित बयान दिया है, उन्होंने बलात्कार को लेकर महिलाओं पर ही लांक्षन लगा दिया है,

किरणमयी ने कहा कि अधिकांश मामलों में लड़कियां लिव-इन में रहकर संबंध बनाती हैं और जब शादी नहीं होती या रिश्ता बिगड़ जाता है, तो वे रेप का केस दर्ज करा देती हैं। भाजपा महिला मोर्चा ने उनके बयान पर आपत्ति जताते हुए कहा कि एक महिला होकर भी महिलाओं के प्रति अपनी दूषित मानसिकता के लिए डा. नायक को प्रदेश की महिलाओं से बिना शर्त माफी मांगनी चाहिए।

भाजपा नेत्री हर्षिता का कहना है कि एंटी महिला आयोग की तरह काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि किरणमयी के बयान से साफ होता है कि अधिकांश महिलाएं गलत है, यह कतई स्वीकार नहीं है। वे यह भूल गईं कि किसी से भी छलपूर्वक या गलत जानकारी के आधार पर प्राप्त सहमति को सहमति नहीं माना जा सकता।

किरणमयी ने कहा कि अधिकांश मामलों में लड़कियां लिव-इन में रहकर संबंध बनाती हैं। जब शादी नहीं होती या रिश्ता बिगड़ जाता है तो वे रेप का केस दर्ज करा देती हैं। ऐसे में लड़कियों को किसी के साथ रिश्ते बनाने से पहले सोच समझ लेना चाहिए, क्योंकि ऐसे रिश्तों के परिणाम बुरे भी हो सकते हैं।

डॉ. किरणमयी नायक, यहीं नहीं रुकीं। उन्होंने आगे कहा कि हर एक की स्थिति अलग होती है, दुनिया फिल्मी कहानी की तरह नहीं होती है। बच्चियों और महिलाओं को उनके अधिकार पता होने चाहिए। अगर लड़कियां नाबालिग हैं तो वे प्यार मोहब्बत के फिल्मी तरीकों से बचें और इनके चक्कर में न आएं।