किसान आंदोलन में लगी रोटी बनाने वाली मशीन, आर-पार का ऐलान कर चुके हैं प्रदर्शनकारी

पिछले 15 दिनों से कृषि कानून के विरोध में हजारों किसान दिल्ली बॉर्डर या दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे हैं, सरकार और किसानों के बीच अबतक 5 दौर की वार्ता हो चुकी है लेकिन कोई हल नहीं निकल सका है, किसानों की मांग है कि कृषि कानून को रद्द किया जाय जबकि सरकार का मांनना है कि कानून में जिस चीज से आपत्ति हो किसान बताये सरकार संसोधन करने को तैयार है.

केंद्र सरकार ने किसानों को एक प्रस्ताव भेजा था जिसमें एमएसपी लिखित में देने की बात कही गई थी, इसके अलावा किसानों की कई और मांगे मानी गयी थी लेकिन किसानों ने ये प्रस्ताव खारिज कर दिया। जिसके बाद आंदोलन लगातार जारी है.

सिंघु बॉर्डर पर किसान आंदोलन लगातर जारी है, सरकार के प्रस्ताव को किसानों ने खारिज किया तो यहाँ किसानों की संख्या बढ़ने लगी है, ऐसे में लोगों को खाने-पीने के लिए कोई दिक्कत न हो इसके लिए रोटी बनाने वाली मशीन लगा दी गई है, पहले यहाँ पर रोटी बनती थी, लेकिन अब मशीन से रोटियां बन रही हैं.

प्रदर्शनकारी किसान अब आर-पार का ऐलान कर चुके हैं, किसानों का कहना है कि जबतक तीनों कृषि कानून रद्द नहीं हो जाता तबतक ऐसे ही विरोध प्रदर्शन होता रहेगा। गौरतलब है कि किसानों ने पहले ही कह दिया था कि हम 4-6 महीनें का राशन पानी लेकर निकले हैं.