कृषि मंत्री से मिलकर ‘भारतीय किसान यूनियन’ ने किया कानून का समर्थन, पदाधिकारियों ने कहा- कानून वापस न हो!

एक तरफ दिल्ली में कृषि कानून के विरोध में किसान आंदोलन कर रहे हैं तो वहीँ दूसरी ओर उत्तर प्रदेश के भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारियों ने केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मिलकर इन कानूनों का समर्थन किया है। यह प्रतिनिधिमंडल मंगलवार ( 15 दिसंबर, 2020 ) को कृषि मंत्री तोमर से मिला और तीन नए कृषि कानूनों को किसान हितैषी बता इनके प्रति अपना पूर्ण समर्थन व्यक्त किया। इसके जानकारी खुद कृषि मंत्री ने ट्वीट करके दी है.

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने अपने ट्वीट में लिखा, उत्तरप्रदेश से आए भारतीय किसान यूनियन के पदाधिकारियों ने आज कृषि भवन नई दिल्ली में मिलकर नए कृषि बिलों के समर्थन में ज्ञापन दिया और कहा कि ये बिल पूरी तरह से किसानों के हित में हैं और इन्हें किसी भी कीमत पर वापस नहीं लिया जाना चाहिए।

कृषि मंत्री से मिलने के बाद भारतीय किसान यूनियन के सदस्यों ने कहा कि इस तरह के रिफॉर्म्स की अपेक्षा देश को बहुत पहले से थी, आज मोदी जी के नेतृत्व में यह अब पूरी हुई है। कुछ लोग इन बिलों को लेकर भ्रम फैला रहे हैं, किसी को भी गुमराह होने की जरुरत नहीं है।

इससे पहले सोमवार ( 14 दिसंबर, 2020 ) को हरियाणा, महाराष्ट्र, बिहार, तमिलनाडू, तेलंगाना व अन्य राज्यों के किसान संगठनों के प्रतिनिधियों ने केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से भेंट कर उन्हें भारत सरकार द्वारा लाए गए नए कृषि कानूनों का समर्थन करते हुए कुछ संशोधन के साथ लागू रखने की मांग करते हुए ज्ञापन दिया।

उत्तराखंड के किसान प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मिलकर कृषि कानून का समर्थन करते हुए कहा कि विपक्षी दल आंदोलन की आड़ में अपनी राजनीतिक रोटियां सेंक रहे हैं। लेकिन हमनें कानून को पढ़ा और ये किसानों के हित में है इसलिए हमनें समर्थन करने का फैसला किया।